-->

28/4/21

COWIN REGISTRATION PROCESS STEP BY STEP, कोविन वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने की पूरी प्रक्रिया को जानिये।

भारत सरकार द्वारा आज शाम 4 बजे से कोविन पोर्टल पर वैक्सीनेशन हेतु रजिस्ट्रेशन प्रारम्भ किया जा रहा है, जिनकी उम्र 18 वर्ष से 44 वर्ष है। आप भी आज ही अपना रजिस्ट्रेशन करवाये, और वैक्सीनेशन करवायें।

कोविन एक मंच है जिस के माध्यम से आप उक्त वेबसाइट पर विजिट करके आसानी से रजिस्ट्रेशन करके अपने टीकाकरण हेतु समय का निर्धारण और स्थान का निर्धारण चुन सकते है, वो भी अपनी सुविधा के अनुसार।

कोविन भारत सरकार द्वारा बनायी गई वेबसाइट है जैसे ही आप इस वेबसाइट को ओपेन करेंगें, आपको इसका इंटरफेस कुछ ऐसा दिखायी देगा।

                                                               चित्र संख्याः 1

2-  रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करते ही आपके सामने दूसरा पेज खुलकर आ जायेगा, जिस पर रजिस्ट्रेशन हेतु आपसे मोबाइल नम्बर इंटर करने को कहा जायेगा। जैसा आप चित्र संख्या 2 में देख सकते है।
चित्र संख्या:- 2

अपना मोबाइल नम्बर डालते ही आपको गेट ओटीपी पर क्लिक करना है, जिस पर क्लिक करते ही आपके उक्त नम्बर पर एक 6 अंको का ओटीपी प्राप्त होगा, जिसे आपको चित्र संख्या 3 में दिये गये उक्त बॉक्स में डालना है।
चित्र संख्या:- 3
छः अंकों का ओटीपी डालते ही आपसे वेरिफाई करने को कहा जायेगा, उक्त वेरिफाई बटन पर क्लिक करते ही आप चौथे पेज पर पहुंच जायेगें। जो चित्र संख्याः 4 पर है।
चित्र संख्याः 4 
उक्त पेज का इंटरफेस आपको कुछ ऐसा दिखायी देगा, जिस पर आपकों कुछ जानकारियों को भरना होगा।

जैसेंः

1. सर्वप्रथम आपको फोटो आई.डी प्रूफ का विकल्प चुनना होगा, आप आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, पेंशन पासबुक, वोटर आईडी कार्ड तथा एन.पी.आर कार्ड में से किसी का भी चुनाव कर सकते है।
2. उक्त किसी का भी चुनाव करने के बाद आपको आई0डी0 नम्बर लिखना है, जैसे आधार नम्बर या पैन नम्बर अथवा जिसका भी आपने चुनाव किया है।
3.तत्पश्चात नाम, लिंग तथा जन्मतिथि भरते ही आपको रजिस्टर पर क्लिक करना है।
4.रजिस्टर पर क्लिक करते ही आपका रजिस्ट्रेशन पूरा हो जाता है। तत्पश्चात् एस.एम.एस के माध्यम से आपको निकटतम वैक्सीनेशन केन्द्र के बारे में बताया जाता है, जहाँ पर आपका वैक्सीनेशन होना है।

उक्त के अलावा आप एक ही नम्बर से अन्य तीन और लोगों का रजिस्ट्रेशन भी कर सकते है, अर्थात् कुल 4 लोगों का जैसा चित्र नम्बरः 5 में बताया गया है।
चित्र नम्बरः 5

उक्त वेबसाइट पर विजिट करके आज ही आपको अपना रजिस्ट्रेशन करवाना है, और वैक्सीनेशन के इस मिशन को पूरा करना है।भारत के नागरिक रजिस्ट्रेशन करके आसानी से अपने टीकाकरण हेतु स्लॉट बुक कर सकते है।

अभी तक 45 साल अथवा उससे ऊपर के उम्र के लोगों के लिए ही वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन उपलब्ध था, परन्तु देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मरीजों को देखते हुए सरकार द्वारा 18 वर्ष से लेकर 44 वर्ष तक के लोगों को भी इस वेबसाइट के माध्यम से रजिस्ट्रेशन करने की सुविधा प्रारन्भ कर दी गयी है। 

देश भर में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार का ये फैसला ऐसे समय में आया है, जिसका पूरे देश को इंतजार था इस फैसले से जहाँ युवाओं को भी वैक्सीनेशन लगाने का काम तेजी से होगा, वही दूसरी तरफ वैक्सीनेशन लगाने की दिशा में हम एक कदम और आगे बढ़ायेगे।

जिस प्रकार से कोविन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने का तरीका है, उसी प्रकार आप सभी के मोबाइल में मौजूद आरोग्य सेतु एप्लीकेशन में भी उक्त सुविधा है, जिस पर विजिट करके आप आसानी से अपना और अपने परिवार का जिनकी उम्र 18 वर्ष से ऊपर है, रजिस्ट्रेशन करवा सकते है।

कोविन वेबसाइट पर विजिट करने के लिए आप सीधे इस बेवसाइट पर क्लिक करके REDIRECT हो सकते है।

वेबसाइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें।    https://www.cowin.gov.in/home  

रजिस्ट्रेशन हेतु यहाँ पर क्लिक करें।               https://selfregistration.cowin.gov.in/



1.कोविन पोर्टल से टीकाकरण हेतु रजिस्ट्रेशन करने के पश्चात् आपके रजिस्टर्ड मोबाईल नम्बर पर एक एस.एम.एस प्राप्त होता है, जो ये बताता है कि किस दिनांक को आपकों किस हॉस्पिटल में टीका लगना है।

2. टीकाकरण हेतु जाते समय आपकों अपनी एक आई.डी. प्रूफ रखनी चाहिए, तथा अस्पताल स्टाफ द्वारा मांगे जाने पर दिखाना चाहिए।

3. अस्पताल स्टाफ द्वारा रजिस्टर पर आपकी सारी जानकारी भरी जाती है, तत्पश्चात् वह आपको टीकाकरण का कार्ड देते है, जिसे आपको भरना होता है। जिसमें आपका नाम, पिता का नाम, उम्र, पता इत्यादि भरे जाते है। उसी कार्ड में एक कॉलम और होता है और वो है वैक्सीनेशन का नाम तथा लगाये जाने का दिनांक।

4. जब आपको पहली डोज लग जाती है, तब आपके कार्ड पर टीकाकरण का दिनांक तथा वैक्सीनेशन कम्पनी का नाम लिख दिया जाता है। तथा उसी के नीचे अगली तिथि भी लिख दी जाती है। जिस दिन आपको दूसरी डोज लगनी होती है।

5. प्रथम डोज लगते ही आपके मोबाइल पर ही एक "प्रोविजनल सर्टिफिकेट" भेजा जाता है, जिससे इस बात की पुष्टि हो जाती है कि आपको प्रथम डोज लग चुकी है।
दूसरी डोज में भी आपके उक्त कार्ड पर वैक्सीनेशन की तारीख लिख दी जाती है। जिसे आप संभालकर अपने पास रख सकते है। यही आपका प्रमाण है।
  















26/4/21

Recent order Guidelines of Karnataka Government, कर्नाटक सरकार द्वारा 14 दिन हेतु लगाये गये आंशिक लॉकडाउन हेतु दिशा-निर्देश

कर्नाटक राज्य ने भी 14 दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर दी है।

राज्य में फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने राज्य में आज सोमवार को आंशिक लॉकडाउन और दिनांकः 27 अप्रैल, 2021 दिन मंगलवार से 14 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा कर ही दी है।

राज्य में बढ़ते संक्रमण के बीच इस तरह के फैसले को मंजूरी देने का मुख्यमंत्री का फैसला आम जनमानस में कोरोना के बढ़ते हुए संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए लिया गया है।

आज कर्नाटक राज्य के मुख्यमंत्री श्री येदियुरप्पा ने मंत्रीमंण्डल की बैठक में इस फैसले पर अपनी मोहर लगायी। और 14 दिन हेतु आंशिक बंद की घोषणा की है।

चूंकि राज्य सरकार ने पहले सप्ताह में ही तालाबंदी कर दी थी, अब इसे बढ़ाकर और दो सप्ताह के लिए कर दिया गया है, इस दौरान राज्य में कई लोगों के खिलाफ उक्त महामारी के उल्लंघन के कारण मुकदमें भी दर्ज किये गये।

आंशिक बंद की घोषणा करते हुए राज्य के मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि विस्तृत आदेश प्रदेश के मुख्यसचिव पी रवि कुमार जल्द ही जारी करेंगें जिसमें प्रदेश में लगाये गये आंशिक बंद के सम्बन्ध में विस्तृत दिशा-निर्देश होगें।

प्रदेश में लगाये गये आंशिक बंद के सम्बन्ध में जो दिशा-निर्देश प्रदेश के मुख्यमंत्री की तरफ से बताये गये है वो कुछ इस प्रकार है।

1. प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा बताया गया कि सिर्फ आवश्यक वस्तुओं की सेवाओं वाली सुविधा यथा, मेडिकल, दवा, दूध, फल-सब्जियों, राशन, पेट्रोल आदि की दुकानें/संस्थान खुले रहेंगे, जिससे आम जनमानस को परेशानी को सामना न करना पड़े।

2. प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा यह भी बताया गया कि राज्य में ऑक्सीजन की आपूर्ति हेतु केन्द्र सरकार ने 800 टन ऑक्सीजन देने की बात कही है, जिससे ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी नही आयेगी, और स्वास्थ्य सेवाएं भी बेहतर होगी।

3. उक्त मंत्रीमंडल की बैठक में मंत्रियों के अलावा कई प्रशासनिक अधिकारी एवं एक विशेषज्ञ समिति भी थी, जिनसे विचार विमर्श करने के बाद ही उक्त निर्णय पारित किया गया, बता दे, ये बैठक 3 घंटे से भी ज्यादा समय तक चली।

4. मुख्यमंत्री ने बताया कि विनिर्माण को छोड़कर सभी प्रकार के उद्योग पूरी तरह से बंद रखे जायेगें।

5. शहरों में कृषि बाजार पूरी तरह से बंद रहेगें परन्तु ग्रामीण क्षेत्रों के लिए छूट रहेंगी।

6. राज्य में कोई भी सार्वजनिक परिवहन नही चलेगा, बेंगलुरू में भी मेट्रो बंद रहेगी।

7. राज्य सरकार उन सभी लोगों के लिए वैक्सीन उपलब्ध करा रही है, जो 45 वर्ष से अधिक है, उनके द्वारा ये भी बताया गया है कि 1 मई, 2021 से प्रदेश के 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का भी टीकाकरण प्रारम्भ किया जायेगा। जो पूरी तरह से मुफ्त होगा। 

8. आवश्यक वस्तुओं की सारी सेवाएं सिर्फ प्रातः 6 बजे से प्रातः 10 बजे तक ही चालू रहेंगी।


राज्य में आंशिक रोक लगाने का उद्देश्य सरकार का प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना की रोकथाम को काबू करने के लिए ही किया गया है, अब देखना है कि इस आंशिक रोक से प्रदेश में कोरोना की रफ्तार पर कितनी लगाम लगती है।

 

 





Discussion on Corona epidemic by Doctors of the country and measures to avoid it.

कोरोना महामारी बचाव से जुड़े हुए सभी मुद्दो पर देश के जाने माने    डॉक्टरों ने क्या कहा है,आप सभी का ये जानना जरूरी है।

Discussion on Corona epidemic by Doctors of the country and measures to avoid it.

इस लेख के माध्यम से सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर डॉक्टरों ने अपनी-अपनी राय व्यक्त की है और ऐसी राय जो पूरी तरह से सकारात्मक है।

देश में कोरोना जैसी महामारी में बड़े डाक्टरों द्वारा दी गई जानकारी वास्तव में एक संजीवनी ही है जिसके बारे में आप सभी का जानना जरूरी है।

इन सभी डाक्टरों ने इस महामारी से बचने के वो सारे उपाय बताये है,  जिन्हें अपनाकर आप महामारी से बच पायेगें। आइये जानते है, किन-किन डाक्टरों ने अपनी राय व्यक्त की है।


1. डा0 रणदीप गुलरिया, जो वर्तमान में अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान (एम्स) नई दिल्ली के निदेशक है।

2. डा0 नरेश त्रेहान देश के प्रख्यात हृदय रोग विशेषज्ञ तथा मेंदांता के चेयरमैन भी है।

3. डॉ0 सुनील कुमार जो डॉयरेक्टर जनरल स्वास्थ्य एवं सेवाएं भारत सरकार  है।

4. डॉ0 नवनीत विग जो एम्स में ही मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष है।


ये चारों डॉक्टर देश के जाने माने डॉक्टरों में से एक है, जो अपने-अपने क्षेत्रों के बेहतरीन विशेषज्ञ तो है ही साथ ही साथ चिकित्सा के क्षेत्र में एक जाना माना ब्रान्ड भी हैं।


आज ही आप सभी डॉक्टरों ने एक बेबीनार के माध्यम से इस कोरोना महामारी से बचाव के वो सारे उपाय साझा किये है, जिन्हें हम सभी देशवासियों का जानना बहुत ही ज्यादा जरूरी और महत्वपूर्ण भी है। क्योंकि सोशल मीडिया और फेक न्यूज को देख देखकर लोगों के मन में नकारात्मकता का आना स्वाभाविक भी है, लेकिन जब देश के बेहतरीन विशेषज्ञ इस विषय पर बात करें तो उस पर ध्यान देना अत्यन्त जरूरी भी है।


यहाँ पर सभी डॉक्टरों द्वारा कही गयी महत्वपूर्ण बातों को 5-5 बिन्दुओं के माध्यम से समझने का प्रयास किया जायेगा।


सर्वप्रथम हम एम्स के डायरेक्टर डा0 रणदीप गुलरिया द्वारा कही गयी बातों को जानते है।

1. पहली बात जो उन्होंने कही कि आज देश में 80 प्रतिशत 90 प्रतिशत मरीजों में मामूली सिमटम्स है, जो किसी भी रूप में हो सकता है जैसे हल्की खांसी, बुखार, आदि इसमें ज्यादा घबराने (पैनिक) होने की बिल्कुल भी जरूरत नही है। मामूली सिम्टम्स होने पर आप अपने आपको घर पर आइसोलेट कर ले, ऑक्सीमीटर से ऑक्सीजन का लेवल चेक कर सकते है, यदि 94 से ऊपर है तो ठीक है यदि आपको लगता है कि कम है तो आप पेट के बल लेट जायें उससे ऑक्सीजन का सेचूरेशन नार्मल हो जायेगा।


2. डा0 गुलरिया ने कहा कि सिर्फ 10-15 प्रतिशत मरीजों में ही गम्भीर लक्षण देखने को मिलते है, जिनका ऑक्सीजन लेवल 93 के नीचे हो तथा साँस लेने में तकलीफ हो रही है और वास्तव में जिन्हें अस्पताल में एडमिट होने की जरूरत हो, वहीं अस्पताल में एडमिट हों, सिर्फ इस आधार पर कि आपको नार्मल सिम्टम्स और अस्पताल में एडमिट होने की जरूरत है तो आप उन मरीजों की जान को खतरे में डाल रहे है जो वास्तव में किसी दूसरी गम्भीर बिमारी से पीड़ित है।

3. आपके अनावश्यक रूप से अस्पताल में एडमिट होने से दो तरह की समस्या उत्पन्न होती है, पहली ये कि आप उस गम्भीर मरीज का बेड अनावश्यक रूप से बुक करके उसकी जान को खतरे में डालते है दूसरा ये कि आपके एडमिट होने से आप और भी बीमार पड़ सकते है।


4. गुलरिया जी ने कहा कि मैजोरिटी ऑफ पेशेन्ट घर पर ही ठीक हो सकते है, जिन्हें माइल्ड सिम्टम्स है उन्हें अस्पताल आने की बिल्कुल भी जरूरत नही है। हल्की सी खांसी आने या बुखार आने से आपको घबराने की बिल्कुल भी जरूरत नही है।


5. डॉ0 गुलरिया ने कहा कि कोरोना बिल्कुल गम्भीर बीमारी नही है, यदि आप सावधानी रखेगें तो ये वायरस आपको नुकसान नही पहुंचायेगा।


डॉ0 नरेश त्रेहान जिन्होनें इस विषय पर अपने विचार रखे।


1. उन्होंने भी इस बात को दोहराया कि 90 प्रतिशत मरीज अपने घर पर ही ठीक हो सकते है, सिर्फ 10 प्रतिशत मरीजों को ही अस्पताल में एडमिट होने की जरूरत पड़ती है, उनके द्वारा अनुलोम-विलोम जैसी एक्सरसाइज करने की भी सलाह दी गयी जो हमारे फेफड़ों को मजबूती प्रदान करते है। आप घर पर ही सुरक्षित रह सकते है।


2. आपको अगर खॉसी, बुखार, गले में खराश अथवा ऐसे कोई भी लक्षण दिखायी दे, तो आपको अस्पताल आने की बिल्कुल भी जरूरत नही है, उन्होंने ये भी बताया कि आप अपने स्थानीय डॉ0 अथवा फैमिली डॉ0 से सम्पर्क करके उनसे कन्सल्ट कर सकते है, क्योंकि सभी डॉक्टर्स को कोविड प्रोटोकॉल के बारे में मालूम है।


3. उन्होंने दो मॉस्क लगाने की भी सलाह दे दी है, जब भी आप किसी भीड़भाड़ वाले जगहों पर जाये, तो दो मॉस्क का प्रयोग करें और मॉस्क को एक शील्ड की तरह पहने, जिससे संक्रमण आपके फेफड़ों में बिल्कुल प्रवेश न कर सकें। बड़े वैवाहिक समारोह, शादियों से दूरी बनाने की सलाह भी डॉ0 नरेश त्रेहान ने दी है।


4. उनके द्वारा एक महत्वपूर्ण बात ये भी बतायी गई कि पहले हमारे देश में प्रतिदिन मेडिकल सेक्टर को 1500 से 2000 टन ऑक्सीजन की जरूरत की जरूरत थी, लेकिन इस महामारी की वजह से अब 7000 से 8000 टन प्रतिदिन की जरूरत होने लगी है.

                                                                 जिसके कारण सप्लायर इसकी सप्लाई नही पूरी कर पा रहे हैं, लेकिन उन्होंने ये भी बताया कि जो हमारे स्टील प्लांट है, और बहुत ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन कन्ज्यूम करते है, वहां से इसको ट्रांसपोर्ट करने की सुविधा ना होने की वजह से समस्या हो रही है, लेकिन सरकार द्वारा इसके ट्रार्न्पोर्टेशन की व्यवस्था की जा रही है, जिससे हमें काफी सहूलियत हो जायेगी।  


5. युवा जो नौकरी पर है, और शाम को घर आते है तो उन्हें सर्वप्रथम अपने मॉस्क को सुरक्षित तरीके से उतारकर रखना है, क्योंकि आप संक्रमण में रहकर अपने बच्चों और बड़े-बुर्जुंगों के बीच में आते है, तो उनमें आप संक्रमण फैला सकते है।


डॉ0 सुनील कुमार डॉयरेक्टर जनरल स्वास्थ्य एवं सेवाएं भारत सरकार  द्वारा भी अपने विचार रखे गये।


1. डॉ0 सुनील कुमार द्वारा बताया गया कि 2020 में जब ये बीमारी आयी तो उस वक्त हमारे देश में सिर्फ 1 आर.टी.पी.सी.आर लैब थी, लेकिन आज हमारे पास 2500 से भी ज्यादा लैब है, जो कोविड-19 की जॉच कर रही है।


2. उन्होनें ये बताया कि पहले हमारे पास इतने टेस्ट नही हो पा रहे थे, लेकिन आज की डेट में प्रतिदिन लाखों टेस्ट किये जा रहे है, और भारत सरकार इस दिशा में निरन्तर काम कर रही है।


3. उनके द्वारा डॉ0 गुलरिया और डॉ0 नरेश त्रेहान की बातों का समर्थन किया गया, और यही कहा गया कि नार्मल सिम्टम्स में हमें अस्पतालों के बेड भरने की बिल्कुल भी जरूरत नही है। सिफारिश करके आप यदि किसी अस्पताल में बेड पा भी जाते है, तो अस्पताल का स्टाफ आपकी तरफ ज्यादा ध्यान देने लगता है, जिससे अन्य बिमारियों से पीड़ित मरीजों को दिक्कत होती है।


4. डॉ0 सुनील कुमार जी ने सकारात्मक तथ्यों पर ध्यान देने की अपील की, ना कि नकारात्मक तथ्यों पर। डॉ0 सुनील कुमार जी ने वैक्सीनेशन करवाने की अपील भी की है, और इस बात को स्पष्ट किया कि वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है, अफवाहों पर ध्यान न देते हुए वैक्सीन लगवाये।


5. सरकार द्वारा बनाये गये सॉफ्टवेयर में वैक्सीन से जुड़े उन सभी तथ्यों को समाहित किया गया जो आम जनमानस के दिमाग में, किसी भी प्रकार की शंका का समाधान करने हेतु आप भारत सरकार द्वारा बनाये गये सॉफ्टवेयर/वेबसाइट पर विजिट करके वैक्सीन से जुड़ी हुई सभी बातों को जान सकते है।


डॉ0 नवनीत विग ने भी इस चर्चा में अपने महत्वपूर्ण विचार रखे।

1. डॉ0 नवनीत ने बीमारी को हराने पर जोर दिया और हेल्थ वर्कर को बचाने पर भी जोर दिया, उन्होंने ये कहा कि जो हेल्थ वर्कर दिन रात इस काम में लगे हुए है, उनकी जान भी अत्यधिक महत्वपूर्ण है। क्योंकि जब हम हेल्थवर्कर को बचायेगें तभी हम भी बच पायेगें।

2. उन्होंने ब्रेक द चेन पर जोर दिया, कि अब किसी भी तरह से इस चेन को ब्रेक करना है, अब इस नम्बर को कम करने के लिए सबकी जवाबदेही तय करनी होगी, मीडिया, डॉक्टर्रस, सरकार, जिला प्रशासन और आम जनता को इस जिम्मेदारी को निभाना होगा।

3. जिला स्तर पर उन्होनें कहा कि हर जिले को अपने जिले की पॉजिविटी रेट को 5 प्रतिशत से कम करना होगा,  जब तक पाजिविटी रेट कम नही होगा तब तक इस चेन को ब्रेक नही किया जा सकता, ये प्रशासन की जिम्मेदारी है कि वो अपने पाजिटिविटी रेट को कम करें।

4. उनके द्वारा ये भी बताया गया कि आज दिल्ली में पॉजिविटी रेट 30 प्रतिशत से ज्यादा है, लेकिन मुम्बई में रेस्ट्रीक्शन लगाने के बाद ये रेट कुछ कम हुआ।

5. डॉ0 नवनीत ने लोगों से पॉजिटिव रहने पर जोर दिया, और नकारात्मक विचारों से दूरी बनाकर रहने की अपील की।

निष्कर्ष-
           जब देश के जाने माने डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा देश के लोगों से अपील की जाती है, तो उसका सकारात्मक परिणाम ही देखने को मिलता है, इन सभी डॉक्टरों द्वारा दी गयी जानकारी सकारात्मक है, और हम सभी को इस पर अमल करना चाहिए, नकारात्मक खबरों, फेक न्यूज, व्हाट्सऐप पर फैलायी जा रही गलत जानकारियों पर बिल्कुल भी विश्वास नही करना चाहिए। तभी हम इस बीमारी से लड़ पायेगे।

इस बीमारी से लड़ने के लिए हम सभी को एक दृढ़ शक्ति की जरूरत है, जो हम सभी को मिलकर लड़ना होगा।
आशा करते है, देश के जाने माने डॉक्टरों द्वारा दी गयी ये सकारात्मक जानकारियां आप सभी को इस महामारी से लड़ने में मदद करेगी।


डॉक्टरों द्वारा की गयी चर्चा का वीडियों देखकर आप सभी आश्वस्त भी हो सकते है,


1.कोविन पोर्टल से टीकाकरण हेतु रजिस्ट्रेशन करने के पश्चात् आपके रजिस्टर्ड मोबाईल नम्बर पर एक एस.एम.एस प्राप्त होता है, जो ये बताता है कि किस दिनांक को आपकों किस हॉस्पिटल में टीका लगना है।

2. टीकाकरण हेतु जाते समय आपकों अपनी एक आई.डी. प्रूफ रखनी चाहिए, तथा अस्पताल स्टाफ द्वारा मांगे जाने पर दिखाना चाहिए।

3. अस्पताल स्टाफ द्वारा रजिस्टर पर आपकी सारी जानकारी भरी जाती है, तत्पश्चात् वह आपको टीकाकरण का कार्ड देते है, जिसे आपको भरना होता है। जिसमें आपका नाम, पिता का नाम, उम्र, पता इत्यादि भरे जाते है। उसी कार्ड में एक कॉलम और होता है और वो है वैक्सीनेशन का नाम तथा लगाये जाने का दिनांक।

4. जब आपको पहली डोज लग जाती है, तब आपके कार्ड पर टीकाकरण का दिनांक तथा वैक्सीनेशन कम्पनी का नाम लिख दिया जाता है। तथा उसी के नीचे अगली तिथि भी लिख दी जाती है। जिस दिन आपको दूसरी डोज लगनी होती है।

5. प्रथम डोज लगते ही आपके मोबाइल पर ही एक "प्रोविजनल सर्टिफिकेट" भेजा जाता है, जिससे इस बात की पुष्टि हो जाती है कि आपको प्रथम डोज लग चुकी है।
दूसरी डोज में भी आपके उक्त कार्ड पर वैक्सीनेशन की तारीख लिख दी जाती है। जिसे आप संभालकर अपने पास रख सकते है। यही आपका प्रमाण है।
  

इनकी चर्चा को जरूर देखे।
https://www.youtube.com/watch?v=CL3BbSZDveU



 














21/4/21

Safest Building in the World दुनिया की सबसे सुरक्षित इमारत कौन सी है?

 क्या कभी आप सभी के दिमाग में ये बात जरूर आयी है कि दुनिया की बेहद सुरक्षित और मजबूत इमारत कौन सी है?


तो आप सोचते होगें कि भारत के प्रधानमंत्री का कार्यालय, या अमेरिका के राष्ट्रपति का व्हाइट हाउस, या किसी भी राष्ट्र के राष्ट्राध्यक्ष का निवास या फिर किसी भी राष्ट्र के सेना प्रमुख का निवास स्थान और हमारा ये सोचना लाजिमी भी है, कि हम किसी भी राष्ट्र के राष्ट्राध्यक्ष के निवास को सबसे ज्यादा सुरक्षित स्थान के रूप में मानते है। परन्तु जानकारी के अभाव में।

Safest Building in the World दुनिया की सबसे सुरक्षित इमारत कौन सी है?


लेकिन दुनिया में कुछ ऐसी इमारत भी है, जिनमें कोई राष्ट्राध्यक्ष या सेना के कोई प्रमुख अथवा कोई बड़ी हस्ती निवास नही करती है, बल्कि ये एक सरकारी इमारत के रूप में प्रतिष्ठिट होती है। जिसकी देखभाल की जिम्मेदारी वहाँ के सरकार की होती है। 


हम बात कर रहे हैं दुनिया की एक ऐसी ही इमारत के बारे में जिसके बारे में आपको मालूम होना ही चाहिए, इस आर्टिकल के माध्यम से यही जानने का प्रयास भी किया जायेगा कि आखिर वो कौन सी इमारत है, जो दुनिया की सबसे बेहतरीन, मजबूत, सुरक्षित इमारत है।


फोर्ट नॉक्स Fort Knox नाम की इमारत दुनिया की सबसे सुरक्षित इमारत है, जिसमें परिंदा भी सेंध नहीं लगा सकता.

अमेरिका के केंटुकी राज्य में बनी हुई इस इमारत की सुरक्षा हेलीकॉप्टर से लेकर विमान सीसीटीवी से लेकर सुरक्षा के लिए बेहतरीन कमांडों इस इमारत की सुरक्षा में 24 घण्टे तैनात रहते है। फोर्ट नॉक्स जिसका निर्माण 1936 में किया गया.


  • फोर्ट नॉक्स इमारत में गोल्ड रिजर्व के रूप में रखा गया है, और ऐसा कहा जाता है कि इस इमारत में अमेरिका के आधे से भी ज्यादा सोना रखा हुआ है। अर्थात् किसी भी राष्ट्र के गोल्ड रिजर्व से भी ज्यादा।

  • इस बिल्डिंग की सुरक्षा अमेरिका का ट्रेजरी विभाग करता है, और सरकार का उसे सहयोग प्राप्त होता है।

  • कहा जाता है कि इस इमारत में अमेरिका के सविंधान की असली कॉपी भी सुरक्षित रखी हुई है। यही कारण है कि इस इमारत को यूनाइटेड स्टेट डिपार्टमेंट ऑफ ट्रेजरी  देखता है।


  • इस बिल्डिंग की इमारत मजबूत ग्रेनाइट की बनी हुई है, कहा जाता है, इस बिल्डिंग की दीवारों पर हमेशा करंट दौड़ता रहता है. 


  • इस बिल्डिंग की सुरक्षा 25000 से भी ज्यादा जवान करते है, जिसमें कुछ बहुत ही ज्यादा प्रशिक्षित और बेहतरीन उपकरणों से लैस उन जवानों की टुकड़ी है, जो किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहते है।

इस बिल्डिंग की कुछ विशेषताएं है जो आपको मालूम होनी चाहिए। 


1. अमेरिका का ट्रेजरी विभाग स्वयं इस बात की पुष्टि करता है कि इस बिल्डिंग की सुरक्षा में आधुनिकतम उपकरणों, संचार उपकरणों, और हथियारों का प्रयोग किया गया है, जो किसी भी परिस्थति में निपटने के लिए हमेशा तैयार स्थिति में मौजूद रहते है।

2. कहा जाता है कि इस इमारत में अमेरिका के आधे से भी ज्यादा गोल्ड रिजर्व रहता है, यदि ऐसा वास्तव में है तो ये किसी भी राष्ट्र के गोल्ड रिजर्व से भी ज्यादा ही है। 

3. यहाँ चप्पे-चप्पे पर कैमरे तो लगे ही हुए है इसके अलावा रडार प्रणाली है जो किसी भी संदिग्ध परिस्थिति को तुरंत भांप लेता है, और एक्टिव हो जाता है।

4. कहा जाता है यहाँ जमीन के नीचे विस्फोटक पदार्थ भी लगे हुए है, जो शरीर के तापमान से संचालित होते है, यदि कोई घुसपैठ की कोशिश करता है तो उसका काम तमाम।

5. यहाँ के दरवाजे 20 टन से भी ज्यादा वजन के है, आप सोच सकते है कि जिन्हें खोलना इंसानों के बस की बात नही लगती है।

6. फोर्ट नॉक्स की ये इमारत काफी बड़े क्षेत्रफल में फैली हुई है, जहाँ से काफी दूर-दूर तक नजर रखी जाती है, ड्रोन कैमरों से लेकर हेलीकॉप्टर से भी इस पूरी बिल्डिंग पर कड़ी नजर रखी जाती है।

7. यहाँ पर सोना किस रूप में रखा हुआ है, ये यहाँ पर तैनात किसी भी सुरक्षाकर्मी को नही मालूम होता है, और सुरक्षा के लॉकर का जिम्मा दो अलग-अलग व्यक्तियों के पास होता है, तथा उन्हें भी इस बात की जानकारी नही होती कि अगले के पास कौन सा कोड होता है।

8. लॉकर की सुरक्षा में अमेरिकी सुरक्षा के मिंट अधिकारी होते है, जिन्हें यहाँ की सुरक्षा को सौपने से पहले शपथ दिलवाई जाती है, इस बिल्डिंग में किसी के भी द्वारा कभी भी सेंध लगाने का प्रयास नही किया गया है। और ऐसा कर भी कौन सकता है।


फोर्ट नॉक्स की विशेषताओं को बताने के लिए ये बाते तो बहुत कम है, इसकी ढेर सारी विशेषताएं तो सुरक्षा की दृष्टि को ध्यान में रखते हुए किसी को भी बताई नही जाती है।

इन बातों को भी जानिये।

अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशाली राष्ट्र है जिसके पास दुनिया का सबसे ज्यादा गोल्ड रिजर्व के रूप में है, यदि किसी भी राष्ट्र की अर्थव्यवस्था डावांडोल होने लगती है, तो ऐसी परिस्थिति में गोल्ड को गिरवी रखकर लोन लिया जा सकता है। विशेषज्ञों की राय में गोल्ड को निवेश का सबसे सुरक्षित साधन माना जाता है। इसलिए हर राष्ट्र अपने पास गोल्ड को रिजर्व के रूप में रखता है।


आइये जानते है कि किस देश के पास कितना गोल्ड रिजर्व के रूप में मौजूद है।

2018 में आई अर्न्तराष्ट्रीय मैगजीन फोर्ब्स की सूची के अनुसार टॉप टेन देश जिनके पास सोना रिजर्व में है, हमारा भारत देश में इस सूची में अपनी जगह बनाने में कामयाब रहा है।

1).  अमेरिका:   8133.5 टन

2).  जर्मनी:     3371.0 टन

3).  इटली:     2451.8 टन

4).  फ्रांस:     2436.0 टन

5).  रूस:      1909.8 टन

6).  चाइना:     1842.6 टन

7).  स्विटजरलैंड: 1040.0 टन

8).  जापान:      765.2 टन

9).  नीदरलैण्ड:   612.5 टन

10).  भारत:      560.3 टन


इस सूची को देखकर आपको आभास हो गया होगा कि अमेरिका का कुल रिजर्व गोल्ड कितना है, जिसके आगे हमारे भारत देश का गोल्ड रिजर्व काफी कम है, इसके बावजूद भारत इस सूची में 10वें स्थान पर काबिज है। और फोर्ट नॉक्स में इस रिजर्व का आधे से भी ज्यादा रखा हुआ है तो इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि अमेरिका का आधा गोल्ड रिजर्व भी सभी देशों से ज्यादा ही है।

आशा है आपकों ये जानकारी अच्छी लगी होगी।
























18/4/21

डम्प्सटर एप से डाटा को कैसे रिकवर करें। What is Dumpster? How to recover data through Dumpster, क्या है डम्पस्टर एप?

सिर्फ मिनटो में अपनी डिलीट की हुयी फोटोज/विडियोज/ऑडियोज को रिकवर करें।

कभी-कभी ऐसा होता है जब आपके फोन की मेमोरी काफी बढ़ जाती है, और फोन हैंग करने लगता है, तो आप अपने फोटोज या विडियोज को डिलीट करने लगते है, इसी दौरान आपसे वो फोटोज भी डिलीट हो जाती है, जिन्हें आप डिलीट नही करना चाहते थे। ऐसी स्थिति में आप घबरा जाते है कि ये क्या हो गया आपके द्वारा।


परन्तु गलती से या भूलवश आपने Mark करके उन सभी फोटोज को भी डिलीट कर दिया जो वास्तव में महत्वपूर्ण थी तो आप परेशान होने लगते है। लेकिन आपकों परेशान होने की कोई जरूरत नही है।

इस आर्टिकल के माध्यम से यही जानने का प्रयास किया जायेगा कि कोई ऐसा टूल मौजूद है, जो हमें हमारे फोटोज या डाटा को रिकवर करने की सुविधा प्रदान करता हो.


आपने कम्प्यूटर में Recycle Bin के बारे में जरूर सुना होगा जो डिलीट की गयी फाइलों यथा विडियोज, फोटोज, पीडीएफ आदि को रिकवर करने की सुविधा प्रदान करता है, और रिस्टोर करते ही फाइल उसी स्थान पर चली जाती है, जहाँ से वह डिलीट की गयी थी। लेकिन Recycle Bin से डिलीट की गयी फोटोज भी यदि डिलीट हो जाती है, तो आप चिंतित हो जाते है।


कम्प्यूटर पर कुछ विशेष Tools/Software के माध्यम से उन डिलीट फाइलों को रिकवर किया जा सकता है। लेकिन उनके बारे में आपकों मालूम भी होना चाहिए।

लेकिन जब आपके स्मार्टफोन में फाइले डिलीट हो जाती है, तो आपको घबराने की बिल्कुल भी जरूरत नही है।


क्योंकि इस काम को आसान बनाता है DUMPSTER APPLICATION  जो  प्ले स्टोर में फ्री में उपलब्ध है, और एक प्रीमियम एप्लीकेशन है।इस एप्लीकेशन का इंटरफेस कुछ इस प्रकार है। 

चित्र संख्या 1ः-

डम्प्सटर एप से डाटा को कैसे रिकवर करें। What is Dumpster? How to recover data through Dumpster, क्या है डम्पस्टर एप?

ये आपके कम्प्यूटर में मौजूद रिसाइकिल बिन की तरह ही कार्य करता है और आपको अपने फोन में डिलीट की गयी फोटो को पुनः पाने की सुविधा भी प्रदान करता है।

उक्त एप्लीकेशन को इन्स्टॉल करने पर पहले आपको सेंटिंग में जाकर ऑप्शन को चुनना होगा कि कौन सी फाइलों को आप Dumpster App  में सेव करना चाहते है। 

जैसा चित्र संख्या 2:- में दिखाया गया है।

डम्प्सटर एप से डाटा को कैसे रिकवर करें। What is Dumpster? How to recover data through Dumpster, क्या है डम्पस्टर एप?
अगली बार जब आप एप्लीकेशन ओपेन करेगें तो आपके द्वारा डिलीट की गयी फोटो  सब से पहले रिसाइकिल बिन में जायेगी जहाँ पर आप अपनी डिलीट फोटोज/फाइल्स को देख सकते है और सिर्फ एक क्लिक पर रिस्टोर कर सकते है. 

Dumpster Application प्ले स्टोर पर मौजूद एक बढ़िया DATA RECOVERY APPLICATION है जो आपको निम्नलिखित सुविधाएं भी देता है।


डम्प्सटर एप से डाटा को कैसे रिकवर करें। What is Dumpster? How to recover data through Dumpster, क्या है डम्पस्टर एप?
  • इस एप्लीकेशन के माध्यम से आप अपने एंड्रायड एप और मीडिया फाइल्स जैसे वीडियो, फोटोज, आडियो तथा किसी भी प्रकार के डॉक्यूमेंट का बैकअप ले सकते है।
  • इस एप्लीकेशन के माध्यम से तत्काल डिलीट हुई फोटोज, वीडियोज इत्यादि को तुरन्त प्राप्त कर सकते है।
  • इस एप्लीकेशन के प्रयोग के लिए या अपने डाटा को प्राप्त करने के लिए आपकों अपने फोन को रूट करने की जरूरत नही है।उक्त एप्लीकेशन में आप अपनी मनपसंद का थीम लगा सकते है।


  • इस एप के माध्यम से आप अपने समस्त डाटा का क्लाउड स्टोरेज में बैकअप भी ले सकते है।

  • इस एप को प्रयोग करने के लिए किसी प्रकार के इंटरनेट की जरूरत नही है।

  • इस एप्लीकेशन का इंटरफेस काफी अच्छा है, और आसानी से उपयोग में लाया जाने वाला एप है, जिसे सीखने के लिए किसी विशेष स्किल की जरूरत नही है।


यदि आप एडवान्स्ड लेवल पर इस एप्लीकेशन का प्रयोग करना चाहते है, तो आपको इसका प्रीमियम वर्जन लेना पड़ेगा, अन्यथा आप बेसिक पैक से अपना काम चला सकते है, में देख सकते हैं.


  1. चित्र संख्याः-3  उक्त सभी प्रकार की खासियतों के साथ ये एप्लीकेशन प्ले स्टोर में काफी बेहतर एप्लीकेशन है जिसे 4 से भी ज्यादा की रेटिंग मिली हुई है, और जिसे 10 मिलियन से भी ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके है।

  1. इस एप्लीकेशन के डीप स्कैन में जाकर आप लगभग साल भर से भी ज्यादा पुरानी फोटो अथवा वीडियों डीप स्कैन के माध्यम से स्कैन करके ढॅूढ़ सकते है, और उसे आसानी से रिकवर कर सकते है। 

चित्र संख्या :-4


डम्प्सटर एप से डाटा को कैसे रिकवर करें। What is Dumpster? How to recover data through Dumpster, क्या है डम्पस्टर एप?

कुल मिलाकर इस एप्लीकेशन अच्छा कहा जा सकता है।

लेकिन कुछ अच्छे एप्लीकेशन के साथ कुछ कमियाँ भी जुड़ी रहती है, जो इस एप्लीकेशन में भी है, जिसे बताना जरूरी भी है।


चूँकि फ्री में उपलब्ध होने के बावजूद इस एप्लीकेशन के बेसिक वर्जन में वो सारी सुविधाएं नही हैं, जो प्रीमियम में है। इस एप्लीकेशन का प्रीमियम वर्जन 12000 रूपये से भी ज्यादा है, जो काफी अधिक है। बेसिक वर्जन में उतने फीचर हमें नही प्राप्त होते है, जो प्रीमियम में प्राप्त होते है। उक्त के अलावा बेसिक वर्जन उपयोग करते समय आपको ढेर सारे एड का सामना करना पड़ेगा।



निष्कर्ष:- ये एप्लीकेशन वास्तव में अच्छा कार्य करता है और, आपकी डिलीट हुई फाइलों को डीप स्कैन के माध्यम से ढ़ूढ कर आपके सामने प्रस्तुत कर देता है। सिर्फ मंहगा है।



 

15/4/21

क्या है बिटलॉकर और ये कैसे काम करता है? What Is BitLocker In Computer and How it works? How to secure your Computer Drive

क्या है बिटलॉकर और ये कैसे काम करता है।
क्या आपके कम्प्यूटर के हार्डड्राइव जैसे H DRIVE, या D DRIVE या अन्य DRIVE जिस पर भी आप अपने Documents, Files, Images, Videos इत्यादि रखते है, क्या उनकी सुरक्षा को लेकर आप सजग है? यदि नही, तो आज ही हो जाइए। यदि आप अपने कम्प्यूटर के हार्डड्राइव में मौजूद डाटा को लेकर लापरवाह है तो आपकों अपने ड्राइव की सुरक्षा को लेकर जागरूक हो जाना चाहिए।

अपने ड्राइव को सुरक्षित करने के लिए माइक्रांसॉफ्ट कम्पनी ने ही अपना एक टूल पहले से ही हमारे विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए बनाया है, जिसे इनेबल करने पर हम अपने कम्प्यूटर में मौजूद समस्त डाटा को सुरक्षित तरीके से रख सकते हैं, और उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित कर सकते है। 

जिसका नाम है बिटलॉकर, हम और आप सभी लोग सबसे पापुलर विंडोज ऑपरेटिग सिस्टम चलाते है, जिसमें देखा जाये तो सुरक्षा के बहुत सारे पैमाने मौजूद है, उन्हीं में से बिटलॉकर एक है, जो विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ में आता है और हमारे विंडोस डिवाइस में पहले से प्रीइंस्टाल्ड रहता है, आपको इसके बारे में मालूम जरूर होना चाहिए।

यदि गलती से आपका सिस्टम किसी गलत हाथ में लग जाये, या हैकर द्वारा आपके सिस्टम को हैक कर लिया जाता है, तो ऐसी स्थिति में आपके सभी महत्वपूर्ण डाटा के खो जाने/चले जाने का खतरा रहता है। लेकिन यदि आपको इस टूल के बारे में मालूम है तो आप समझदारी से अपने कम्प्यूटर में मौजूद समस्त डाटा को इन्क्रिप्ट (लॉक लगाकर सुरक्षित करना) कर सकते है।

 चित्र नम्बर 1:-  

जैसा कि आप इस चित्र में देख सकते है कि आपको कन्ट्रोल पैनल सामने ही दिखाई दे रहा है, यदि नही दिखाई दे रहा है, तो आप सेटिंग्स में जाकर भी कन्ट्रोल पैनल को ओपेन कर सकते है। ओपेन करते ही आपकों इसका इंटरफेस कुछ ऐसा दिखाई देगा। आपकों कन्ट्रोल पैनल पर क्लिक करना है। 

चित्र नम्बर 2:-  कन्ट्रोल पैनल ओपेन करते ही आपको दूसरी स्क्रीन पर कुछ ऐसा इंटरफेस देखने को मिलेगा।
जैसे ही आप कन्ट्रोल पैनल को ओपेन करेंगे, वैसे ही आपको कई टूल्स दिखायी पड़ जायेगें, जों माइक्रोसॉफ्ट में पहले से प्रीइंन्स्टाल्ड होते है। इन्हीं के बीच आपको बिटलॉकर का ऑप्शन दिखायी देगा। जिसे आपकों क्लिक करना है, इसे क्लिक करते ही एक नई विन्डो खुलकर आपके सामने आ जायेगी।



चित्र नम्बर 3:- उक्त चित्र के माध्यम से आप समझ सकते है कि यहाँ पर आपकों बिटलॉकर को टर्न ऑन करना है, टर्न ऑन करते ही ये आपके सिस्टम को चेक करेगा कि आपका सिस्टम इस टूल को चलाने के लिए सारे मानकों को पूरा करता है अथवा नही। 

यहाँ पर यह बताना भी जरूरी है कि बिटलॉकर सिर्फ आपकी इर्न्टनल हार्डड्राइव को ही सुरक्षा नही प्रदान करता है, बल्कि एक्सटर्नल मैमोरी यथा पेन ड्राइव तथा मेमोरी कोर्ड को भी इन्क्रिप्ट करने की सुविधा प्रदान करता है। 
जिस पर क्लिक करते ही एक चौथी विन्डो भी खुलकर सामने आ जायेगी। 
जैसे ही आप टर्न ऑन पर क्लिक करते है, आपके सामने ये चौथी विन्डो खुलकर सामने आ जायेगी। जैसा आप इस चित्र के माध्यम से देख सकते है,
चित्र नम्बर 4:-
इसमें आपको दो प्रकार से पासवर्ड बनाने के बारे में पूछा जाता है ’’ चूज हाउ यू वान्ट टू अनलॉक दिस डिवाइस ’’
पहलाः आपको सिर्फ पासवर्ड बनाना है, जो स्ट्रांग होना चाहिए, अपर केस, लोअर केस, स्पेशल कैरेक्टर, नम्बर आदि का प्रयोग करते हुए आपको दोनो बॉक्स में पासवर्ड डालना है।
दूसराः दूसरे तरीके में आपकों स्मार्टकार्ड जो एक पेन ड्राइव के रूप में हो सकता है के माध्यम से आपको अपना ड्राइव ओपेन करने की सुविधा प्रदान करता है जिसे आप पिन के माध्यम से इनेबल कर सकते है। जब आप सिस्टम में अपना कार्ड लगायेगें तब ये पिन मागेंगा, और आपके पिन डालते ही ये ओपेन हो जायेगा।
उक्त दोनों विकल्पों में से आप जो चाहे चुन सकते है, तत्पश्चात् आपकों नेक्स्ट के बटन पर क्लिक करना है, जिस पर क्लिक करते ही आपकी इर्न्टनल, अथवा एक्सर्टल ड्राइव इन्क्रिप्ट होना प्रारम्भ हो जायेगी, कुछ मामलों में ये जल्दी हो जाती है, परन्तु यदि आपकी मेमोरी काफी ज्यादा भरी हुई है तो ये काफी समय ले लेता है, जिसके बाद आपका हार्डड्राइव पूरी तरह से सिक्योर हो जाता है। और भविष्य में यदि किसी भी प्रकार की चोरी अथवा हैकिंग होती है तो आपका डाटा कोई भी चुरा नही पायेगा, बशर्तें आपने एक मजबूत और सुरक्षित पासवर्ड बनाया होगा।






 









Royal Challengers Bangalore versus Sunrisers Hyderabad Match score

रॉयल चैलेंजर्स बैगलुरू की आँधी में बह गये सनराइजर्स के सितारें।

आखिरकार वहीं हुआ जिसका डर था, पहले बैटिंग करने उतरी टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरू की टीम जब सिर्फ 149 पर ही सिमट गयी, तब लग रहा था कि शायद इस बार सनराइजर्स जीत के साथ अपना खाता खोलकर कुछ पाइंट जरूर बना लेगी, लेकिन बैंगलुरू के गेंदबॉज शहबाज अहमद की बेहतरीन गेंदबाजी के आगे सनराइजर्स की बल्लेबाजों ने अपने घुटने टेक दिये। सहबाज ने बेहतरीन बॉलिग करते हुए 2 ओवर में 7 रन देते हुए 3 विकेट अपने नाम कर लिये, और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रर्दशन भी किया। जिसकी बदौलत मैच एकतरफा हो गया। 

सनराइजर्स के लिए ये जीत अहम थी, क्योंकि पिछले मैच में वो कोलकाता नाइटराइडर्स से भी 10 रन से हार गयी थी, और उसके लिए ये जीत अत्यधिक महत्वपूर्ण थी। लेकिन इतने कम रन पर  बैगलुरू को समेट देने पर भी उसके हाथ निराशा ही लगी। इस जीत के साथ पाइंट टेबल पर रॉयल चैलेंजर्स बैगलुरू 4 अंकों के साथ टॉप पर आ गयी है। 


चित्र नम्बर 1ः-

रॉयल चैलेन्जर्स की बैटिंग का स्कोर कार्ड चित्र एक में है।

रॉयल चैलेन्जर्स बैगलुरू की तरफ से 14 चौकें तथा 4 छक्के लगाये गये।

ग्लेन मैक्सवेल की 59 रन की बदौलत आज रॉयल चैलेन्जर्स बैगलुरू ने 8 विकेट पर 149 रन बनाये, जो सिर्फ एक सम्मानजनक स्कोर था, और रॉयल चैलेंजर्स बैगलुरू की तरफ से सिर्फ ग्लैन मैक्सवेल ही ऐसे प्लेयर थे जो पचासा पूरा कर पाये, इनके अलावा कोई भी बैट्समेन ऐसा नही था, जो पचासा मार पाया हो, कप्तान विराट कोहली भले ही क्रीज पर रूकने का प्रयास कर रहे थे, और अच्छा खेल रहे थे, जिन्होने 29 गेंदो पर 33 रन बनाये लेकिन इसी बीच वो विजय शंकर को कैच दे बैठे, उनका विकेट जेसन होल्डर ने ले लिया और वो निराश होकर पवेलियन चले गये।

सनराइजर्स हैदराबाद की तरफ से जेसन होल्डर ने 30 रन देकर 3 विकेट लिये जिसमे 13 डॉट बॉल भी शामिल है। और 2 विकेट राशिद खान के द्वारा भी लिये गये।

यहाँ पर ये बताना जरूरी होगा कि आई.पी.एल सीजन 2021 के उद्घाटन मैच में रॉयल चैलेन्जर्स बैगलुरू ने अपने प्रतिद्धंद्धी मुम्बई इंडियन्स को 2 विकेट से हराकर इस सीजन में अपने खेल की बेहतरीन शुरूआत की थी, उस मैच में उसने मुम्बई इंडियन्स को 2 विकेट से हराकर मैच अपने नाम कर ही लिया।

पहले बल्लेबाजी करते हुए मुम्बई इंडियन्स ने पूरे 20 ओवर खेलकर 159 रन का सम्मानजनक स्कोर बनाया था, तत्पश्चात् उक्त स्कोर को चेज करने में रॉयल चैलेन्जर्स बंगलुरू को ज्यादा मशक्कत  करनी पड़ी. और रोमांचक मुकाबले में उसने मुम्बई इंडियस को हरा ही दिया।

रॉयल चैलेंजर्स बैगलुरू और मुम्बई इंडियंस के बीच खेले गये मुकाबले की सबसे बेहतरीन रोमांच हर्षल पटेल की कसी हुई गेंदबाजी रही, जिन्होनें 4 ओवर डालकर 27 रन देते हुए 5 विकेट झटक लिये, जो इस मैच का निर्णायक मोड़ भी रहा। इन चार ओवरों में पटेल ने 12 डॉट बॉल भी डाली। पटेल की बेहतरीन गेदबाजी के कारण ही मुम्बई बहुत बड़ा स्कोर नही कर पायी थी, और सारी टीम 159 पर सिमट गयी।

चित्र नम्बर 2 :-
सनराईजर्स हैदराबाद का स्कोर कार्ड यहाँ पर देखे।

अब आगे के मैचों में इन दोनों टीमों के प्रदर्शन को देखना खास होगा, जहाँ एक तरफ सनराइजर्स को फिर से नई रणनीति बनानी होगी, वही दूसरी तरफ रॉयल चैलेजर्स के लिए अभी अन्य टीमों से भिड़ने के लिए भी तैयार रहना पड़ेगा। तभी इन दोनों टीमों के लिए आगे की दिशा निर्धारित होगी।








10/4/21

Delhi capital versus Chennai Super kings, Score card of Delhi capitals, 7 विकेट से जीता दिल्ली कैपिटल्स।

 शिखर धवन की वजह से जीत गया दिल्ली कैपिटल

पृथ्वी शाह और शिखर धवन की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के कारण दिल्ली कैपिटल ने चेन्नई सुपरकिंग्स पर जीत दर्ज करके अपने इस आई.पी.एल में बेहतरीन शुरूआत की। शिखर धवन और पृथ्वी शाह ने चेन्नई सुपरसिंग्स के सभी बॉलरों की तगड़ी धुनाई करके, अपने दमखम का परिचय दिया है। पृथ्वी शाह ने 38 गेंदो का सामना करके 189.47 के स्ट्राइक रेट के हिसाब से बेहतरीन 72 रनों का योगदान दिया। जिसमें 3 छक्के और 9 चौके भी शामिल है अर्थात् 54 रन सिर्फ बाउन्ड्री से ही पृथ्वी शाह ने बना लिये। पृथ्वी शाह ब्रावों के द्वारा आउट किये गये।

शिखर धवन ने 54 गेंदों पर 85 रन बनाये, और वो बेहतरीन पारी खेल कर सर्दुल ठाकुर के द्वारा एल.बी. डब्ल्यू आउट हो गये। अपनी 85 रन की पारी में उन्होनें 10 ताबड़तोड़ चौके और 2 छक्के भी लगाये। उनकी और पृथ्वी शाह की वजह से ही दिल्ली कैपिटल अपना पहला मैच 7 विकेट से जीतने में कामयाब रही। 


 पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई सुपरकिंग्स ने सभी ओवर खेलकर 7 विकेट गवांकर 188 रनों का एक बेहतरीन स्कोर खड़ा किया। चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से बेहतरीन पारी सिर्फ सुरेश रैना ही खेल पाये जिन्होने 36 गेंदों में 54 रन बनाये और 4 छक्के भी मारे। माही अर्थात् धोनी ने निराश किया और वो 2 गेंद खेलकर आराम करने चले गये उन्हें आवेश खान ने बोल्ड कर दिया।

चेन्नई द्वारा की गयी बैंटिंग का पूरा विवरण उक्त चार्ट में देखें।

इस मैच के बाद शिखर धवन और पृथ्वी शाह ने बता दिया कि दिल्ली कैपिटल्स भी रेस में है, जिसे हराना आसान नही होगा।



Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।

क्या आप भी अपने पुराने फोन से परेशान है और उसे बेचना चाहते है तो बेचिये यहाँ पर।

इस लेख में आपकों अपने फोन को बेचने की पूरी जानकारी दी जायेगी और ये भी बताने का प्रयास किया जायेगा कि यदि आप अपना फोन बेच देते है उसके बाद आपके फोन का किया क्या जाता है। हम ऐसी ही सबसे विश्वसनीय और बेहतरीन वेबसाइट के बारे में बात करेंगे।

Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।


Cashify एक ऐसा प्लेटफार्म जो आपको अपना फोन बेचने,अपने फोन को उचित कीमत पर मरम्मत करने, और रिसाइकिल करने की सुविधा प्रदान करता है।


CASHIFY जिसका विचार 2013 में आया, और आज CASHIFY ने 20 लाख से भी ज्यादा ग्राहक जोड़ लिये और 30 लाख से भी ज्यादा डिवाइस ग्राहकों से खरीद चुका है और 1200 करोड़ से भी ज्यादा का भुगतान कम्पनी अपने ग्राहकों को कर चुकी है।


सिर्फ 1 कमरें और तीन लोगों से शुरू हुआ कैसिफाई का ये सफर आज 15 ऑफिसेस और 800 लोगों से भी ज्यादा पहुंच चुका है।

CASHIFY आपकों सिर्फ फोन को बेचने की ही सुविधा नही देता बल्कि खरीदने पुर्नउत्पादन करने और अपने फोन की मरम्मत करवाने की सुविधा भी प्रदान करता है।


कैसिफाई की विशेषताएं, और ये कैसे काम करती है

कैसिफाई दो प्लेटफार्म पर काम करता है पहला वेबसाइट आधारित और दूसरा है एप्लीकेशन आधारित अर्थात् आप वेबसाइट के अलावा एन्ड्राइड प्ले स्टोर से या आई.ओ.एस में एप स्टोर से इस एप्लीकेशन को डाउनलोड कर सकते है। और बिना किसी परेशानी के अपने डिवाइस को बेच सकते है।


कैसिफाई आपकों मोबाइल के अलावा निम्नलिखित डिवाइसेस बेचने की सुविधा भी प्रदान करता है।

जैसे:-

 

टेलीविजन

फिटनेस बैन्ड

स्मार्ट वॉच

स्मार्ट स्पीकर

डी.एस.एल.आर कैमरा

उक्त के अलावा CASHIFY आपको अपने फोन को मरम्मत (रिपेयर) करवाने की सुविधा भी प्रदान करता है

वो भी काफी किफायती कीमत पर।


इस चार्ट के माध्यम से आप देख सकते है कि किस तरह से आप अपने स्मार्टफोन को रिपेयर करवा सकते है।

Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।


Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।






Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।

रिपेयर के सेक्शन में जाते ही जैसे ही आप रिपेयर पर क्लिक करते है, तो आपसे ब्रान्ड चूज करने के लिए कहा जाता है, हमारे द्वारा उदाहरण के लिए मोटोरोला का एम सीरीज का मोटो एम गोल्ड कलर चूज किया गया, चूज करते ही आप पिक योर रिपेयर सर्विस में आ जाते है। जहाँ से आप अपने डिवाइस की समस्या का चुनाव कर सकते है। उदाहरण के लिए जैसे ही आप स्क्रीन का चुनाव करते है तो आपको बुक नाउ  को सेलेक्ट करते ही आपके पास अपने निवास का पता डालने का बॉक्स आ जाता है, जिस पर आप अपना पता, पिन कोड तथा मोबाइल एन्टर करते है, उसके बाद कॉन्टीन्यू पर क्लिक करते ही आपकी बुकिंग कन्फर्म हो जाती है।

रजिस्ट्रेशन के पश्चात् टेक्नीशियन/इंजीनियर आपके दरवाजे पर आता है और वो आपके डिवाइस को रिपेयर करता है या अगर आपका फोन डोर पर ही ठीक होने लायक है तो 1 घण्टे में ही आपका फोन ठीक हो जाता है नही तो उसे स्टोर ले जाकर ठीक करवाया जाता है। आपका डिवाइस रिपेयर होने के बाद कम्पनी उस पर निम्न सुविधा भी प्रदान करती है।


  • उच्च क्षमता के पार्ट्स लगाये जाते है।
  • डिवाइस की टोटल सिक्योरिटी
  • कुशल कारीगर/इंजीनियर द्वारा सर्विस
  • 6 माह की वारंटी सभी पार्टस पर जो बदले गये है।


ये बात हुई स्मार्टफोन को बेचने और उसके मरम्मत के बारे में। इन सबके अलावा इस वेबसाइट पर मोबाइल फोन के अलावा Laptop, Desktop, Tablet, Gaming Console आदि को भी आसानी से बेच सकते है।

आइये एक मोबाइल को बेचने की पूरी प्रक्रिया को देखते हैं।


Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।








अब बात करते है कैसिफाई हमारे द्वारा बेचे गये मोबाइल का क्या करती है तो यदि हमारे द्वारा बेचे गये मोबाइल ठीक है और मरम्मत के लायक होते है, तो उन्हें रिर्फबिस्ड करके कम्पनी कम दामों पर बेचती है, क्योंकि आज भी भारत में ऐसे कंन्ज्यूमर है, जो सेकेण्ड हैण्ड मोबाइल खरीदना पसन्द करते है, और नये मोबाइल को एफर्ड नही कर सकते है।

उक्त के अलावा हमारे द्वारा दिये गये डिवाइसेस यथा, मोबाइल, टीवी, डेस्कटॉप, लैपटॉप इत्यादि यदि किसी भी काम के नही है, तो कैसिफाई पर आप कम्प्लेन्ट करके अपने उक्त डिवाइसेस को इनके कलेक्शन सेंटर पर दे सकते है। ये सभी डिवाइसेस ई-वेस्ट मैनेजमेन्ट के तहत नष्ट किये जाते है।


सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद जैसे ही आप अन्तिम पेज पर होते है, वहाँ पर पेमेन्ट लेने के ऑप्शन को चूज करना होता है, जैसा कि आप उक्त इमेज में देख सकते है, यदि आप अमेजन, या फ्लिपकार्ट का बाउचर लेना चाहते है, तो कुल मिलने वाली कीमत का आपको 5 प्रतिशत, तथा फ्लिपकार्ट पर 6 प्रतिशत एक्स्ट्रा बोनस मिलता है।

Sell your old smartphone, laptop on the internet in just 5 minutes,सिर्फ 5 मिनट में अपने पुराने स्मार्टफोन, लैपटॉप को इंटरनेट पर बेंचे।

E- waste Management center  आप इस लिंक पर क्लिक करके ई-वेस्ट मैनेजमेन्ट सेंटर की पूरी सूची देख सकते है।

आप इस लिंक पर क्लिक करके आज ही Cashify से जुड़ सकते है, और अपना एकाउन्ट बनाकर आज से ही अपना फोन या लैपटॉप बेच सकते है। Hey! Sell your phone instantly and get Rs.100 more on your first transaction using my referral code AQXXTH https://cshfy.in/f2f599af 

अगर आपको ये लेख पसन्द आया तो कृपया कमेंट करके जरूर बताये, और मुझे फॉलो करें।