-->

28/6/21

Do you know that you can earn a lot of money even by recharging? जियो फोन से रिचार्ज करके आप भी ढेर सारे पैसा कमा सकते है, तुरंत जानिये।

JioPOS Lite को ज्वाइन कीजिए और हर रिचार्ज पर कमाये Commission.



आप भी अपने जियों स्मार्टफोन में जियोंपॉस लाइट डाउनलोड करके जियो फोन से ढेर सारा पैसा कमा सकते हैं। जानिये कैसें?





JioPOS Lite  जिओ की तरफ से ग्राहकों को दिया जाने वाला एक बेहतरीन कॉन्सेप्ट है, जिसमें जुड़कर आप अच्छा कमीशन कमा सकते हैं।

JioPOS Lite  के Associate Member बनकर आप भी अपना अथवा अपने सगे सम्बन्धियों का रिचार्ज करके अच्छा खासा कमीशन कमा सकते है।


  • JioPOS Lite काम कैसे करता है?:


JioPOS Lite  जिओ कम्पनी का ही एक Application है, जिसे आप प्ले स्टोर अथवा एप स्टोर से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं, और आज से ही अपनी आय अर्जित कर सकते है। यदि हम ये कहें कि ये एक प्रकार का वॉलेट है तो गलत नही होगा, परन्तु इस वॉलेट का उपयोग आप सिर्फ जिओं मोबाइल रिचार्ज में ही कर सकते है।

JioPOS Lite के Associate Partner बनकर आप अपना स्वयं का जिओ रिचार्ज अथवा अपने मित्र का रिचार्ज करके कमीशन कमा सकते हैं।


  • JioPOS Lite के मैम्बर कैसे बनें?:

JioPOS Lite के Member बनने के लिए पहली शर्त ये है कि आपके पास जिओ का नम्बर होना चाहिए। आपको अपने स्मार्टफोन में JioPOS Lite एप्लीकेशन को डाउनलोड करना है, और अपने Jio नम्बर और जी-मेल अकाउंट से साइन अप करते हुए अपना अकाउंट बनाना है। लीजिए आप तैयार है कमाने के लिए।


JioPOS Lite  की विशेषताएंः


1. JioPOS Lite में अकाउंट बनाना बिल्कुल आसान है, अपने जिओ नम्बर और मेल एड्रेस का प्रयोग करते हुए आपको अपना अकाउंट बनाना है, जो कि बिल्कुल भी कठिन नही है।


2. अकाउंट बनते ही आपको अपने वॉलेट में धनराशि को लोड करना है, जैसे आप अपने पेटीएम, अथवा अमेजन पे वॉलेट में पैसा लोड करते है, पैसा लोड करते ही आपके अकाउंट में आपका कमीशन भी लोड कर दिया जाता है।


3. अपने उक्त वॉलेट के माध्यम से आप अपनो को रिचार्ज आसानी से कर सकते हैं।


4. उक्त एप्लीकेशन में आपको अर्निग सेक्शन भी दिखायी देता है, जिस पर क्लिक करके आप अपने द्वारा कमाये गये कमीशन को देख सकते हैं, और आपके द्वारा प्रतिदिन कितनी धनराशि कमाई जा रही है उसे भी आसानी से मॉनीटर कर सकते हैं।


5. समय-समय पर यदि आपके द्वारा बेहतरीन प्रदर्शन किया जाता है तो जिओ आपको और भी ज्यादा कमीशन दे देता है, जो आपके उक्त वॉलेट में ही जमा कर दिया जाता है।


  • Partner बनने हेतु किन दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है?:

Jio Associate Partner बनने हेतु आपको अपने आधार कार्ड, पैन कार्ड तथा निवास प्रमाण की जरूरत पड़ती है, ये पूरी तरह से पेपरलेस कार्य होता है, जिसमें आपको अपने डॉक्यूमेंट अपलोड करने होते है, जिसके बाद आपका उक्त अकाउंट Verify हो जाता है, तत्पश्चात् जिओ की तरफ से आपको एक Jio Partner I.D दी जाती है, जो आपकी पहचान होती है, जिसे आप किसी भी प्रकार के पत्राचार हेतु प्रयोग कर सकते हैं।


  • कितना कमीशन मिलता है?-

देखिये जियों एशोसिएट मेम्बर बनते ही ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप इससे कितना कमा लेगें, जितना रिचार्ज उतना कमीशन, अर्थात् यदि आप एक दुकानदार है, तो आपके चांस बहुत ज्यादा है कि आप ढेर सारा कमीशन यहां से प्राप्त कर सकते हैं, परन्तु एक इंडीविजुअल इंसान भी यहां से कई लोगों के रिचार्ज करके पैसा कमा सकता है।

वर्तमान में जियों अपने एशोसिएट मेम्बर को लगभग 4% COMMISION प्रदान करता है।


उदाहरण के तौर पर यदि आप 5000 रूपये की धनराशि अपने JioPOS Lite वॉलेट में डालते है तो आपको 208.30 पैसे प्राप्त होते हैं,  

जैसा आप प्रथम चित्र में देख सकते हैं।



दूसरे उदाहरण में

यदि आप किसी जिओ उपभोक्ता का 555 रूपये का 84 दिवस का रिचार्ज करते हैं तो आपको कमीशन के रूप में 23.12 पैसे प्राप्त होते है,अर्थात् 555 के रिचार्ज पर तुरंत आपको इतने रूपये की बचत हो जाती है।


जैसा आप चित्र संख्या 2 में देख सकते हैं। 


इस तरह का Concept लाने का Jio का उद्देश्य अपने ग्राहकों को बेहतर सेवाएं देने के साथ-साथ कमीशन के रूप में कुछ धनराशि देने की भी है।


पहले कई बार ऐसा होता था कि हम दुकान पर जाकर Recharge करवाते थे, और रिचार्ज करने पर दुकानदार को कुछ धनराशि कमीशन के रूप में कम्पनियां देती थी/है। परन्तु जैसे-जैसे समय बीतता गया है, और लोग डिजिटल दौर में प्रवेश कर गये है, तो वे अपना तथा अपने सगे सम्बन्धियों का रिचार्ज स्वयं कर देते हैं, जिसके बदले वो कभी-कभी कैशबैक भी कमा लेते है।

अब चूंकि हर व्यक्ति अपना रिचार्ज स्वयं करने लगा है तो कम्पनी अपने ग्राहकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से उन्हें कमीशन के रूप में कुछ धनराशि देने लगी है, कमीशन मिलने से ग्राहकों का रूझान भी इस तरफ बढ़ा है, और लोग स्वयं ही रिचार्ज करने लगे हैं।

इसलिए आप भी JioPOS Lite के मेम्बर बनकर कमीशन कमा सकते है, यदि आप धीरे-धीरे कई लोगों का रिचार्ज करने लगेंगे, तो आप समय के साथ-साथ ज्यादा कमीशन भी प्राप्त करेंगे, और आपके रिकार्ड को देखते हुए Extra कमीशन भी आपको प्राप्त होगा।

आशा है कि आपको Jio द्वारा कमीशन कमाने के बारे में दी गयी समस्त जानकारी पसन्द आयी होगी।














25/6/21

क्या खरीदारी करके भी पैसे कमाये जा सकते है? शॉपिंग करके भी पैसा कमाने का तरीका आप सभी को पता होना चाहिए।

Cashkaro से पैसा कैसे कमाना है, हमें अभी आपको बताना है।

क्या है Cashkaro और ये कैसे काम करता है।

क्या खरीदारी करके भी पैसे कमाये जा सकते है? शॉपिंग करके भी पैसा कमाने का तरीका आप सभी को पता होना चाहिए।



Cashkaro एक ऐसा प्लेटफार्म, और एक ऐसा मंच जहां से आप अपनी या अपने मित्रों के लिए खरीदारी करके ढेर सारे पैसे कमा सकते है। कैशकरो जिसकी स्थापना रोहन भार्गव एवं स्वाती भार्गव जी द्वारा 2013 में प्रारम्भ की गयी।

कैशकरों एक कैशबैक और कूपन वेबसाइट है जिस पर आप अपना अकाउन्ट बनाकर हर शॉपिग पर कैशबैक कमा सकते है। यदि ये कहा जाये कि कैशकरो एक एफीलियेट मार्केटिंग की तरह कार्य करती है, तो गलत नही होगा जिस प्रकार हम किसी उत्पाद को एफीलियेट मार्केटिंग के माध्यम से बेचते है तो कम्पनी हमें उसका कमीशन देता है, उसी प्रकार कैशकरों भी काम करती है, लेकिन बहुत बड़े पैमाने पर।

आइये जानते है कि ये कैसे काम करता है?


जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है कि कैशकरो एक कूपन तथा कैशबैक उपलब्ध करवाने वाली कम्पनी है, जिस पर कई बड़ी ग्लोबल तथा भारतीय कम्पनियां पार्टनर के रूप में लिस्टेड है। जैसेः Amazon, Flipkart, Myntra, Make My Trip, Swiggy, Netmeds, Mama Earth, BigBasket आदि कई वेबसाइट हैं जिन पर विजिट करके आप हर शॉपिग पर कैंशबैक कमा सकते हैं।


कौन-कौन सी कम्पनियां लिस्टेड है और कैसे काम करती है। आइये जानते है ऐसे।

कैशकरो की वेबसाइट पर निम्नलिखित वेबसाइट रजिस्टर्ड है।


1. ग्रासरी किराना Grocery Item :

2. आवश्यक वस्तुएं Essential Item:

3. स्वास्थ्य और दवाईयां Health & Medicines :

4. सौन्दर्य और कॉस्मेटिक का सामान Beauty:

5. शिक्षा Education:

6. डोमेन की खरीदारी Domain:

7. फैशन के उत्पाद Fashion :

8. रिचार्ज और बिलों का भुगतान Recharge and Bill Payments:

9. घर तथा किचन के उत्पाद Home and Kitchen product:

10. फूड डिलीवरी Food Delivery:


  • - ग्रासरी के रूप में बिग बॉस्केट, अमेजन पैन्ट्र, ग्रोफर्स, फ्रेश टू होम, बिग बाजार आदि से आप अपने घर की राशन जैसे तेल, चावल, आटा, चीनी, साबुन, घी, बिस्कुट आदि उत्पादों को कम दाम पर खरीद सकते है। जिन पर समय-समय पर कई प्रकार के ऑफर भी आते है, उनका उपयोग करके भी आप अपनी अच्छी खासी धनराशि बचा सकते हैं। और कैशबैक के लिए आपका कैशकरो है ना। तो चिंता किस बात की।


  • - आवश्यक वस्तुओं की वेबसाइट के रूप में अमेजन, मिन्त्रा, नेटमेड्स, धानी, एजियो इत्यादि लिस्टेड है, जिन पर आपकों लाखों की संख्या में उतपाद मिल जायेगें, और आवश्यक सेवाओं में हमारे दैनिक जीवन की वो सारी वस्तुएं आ जाती है, जिनका भी हम नाम भर ले लें।


  • - स्वास्थ्य और औषधियों के रूप में नेटमेड्स, फार्मईजी, हेल्थकार्ट, मेडिबडी, वेदॉज, 1एम.जी, पीसेफ इत्यादि वेबसाइट लिस्टेड है, जिन पर आप किसी भी प्रकार की दवाई बहुत ही आसानी से खरीद सकते है, और सिर्फ दवाईयों पर ही 20 से 30 प्रतिशत तक डिस्काउंट मिल जाता है, इसके अलावा कैशबैक तो मिलेगा ही। लेकिन याद रहे ऐसी बहुत सारी दवाईयां है जिन्हें आप बिना डॉक्टर की सलाह के नही खरीद सकते है, जब तक आपके पास डॉक्टर का वर्तमान पर्चा न हो, क्योंकि दवाई खरीदते समय डॉक्टर का पर्चा भी अपलोड करना आवश्यक होता है।


  • - सौन्दर्य के उत्पदों की खरीद के लिये आपको यहां पर कई वेबसाइट मिल जायेगीं कैशकरों के माध्यम से आपको उन वेबसाइट पर विजिट करना है और अपने सौन्दर्य का सामान खरीदना है। नाईका, अमेजन, फ्लिपकार्ट, वॉव, हिमालया, लोटस, लैक्में, स्किनक्राफ्ट, द बॉडीकेयर आदि सौन्दर्य कें उत्पादों की बिक्री करती है।


  • - शिक्षा की वेबसाइट के रूप में बायजू, एजूरेका, टॉप रैंकर्स, उडेमी इत्यादि है, जहां से आप ऑनलाइन उक्त वेबसाइटों पर विजिट करके अपनी पढ़ाई के साथ-साथ कैशबैक भी कमा सकते है।


  • - यदि आप अपनी वेबसाइट के लिए अपना खुद का डोमेन अथवा बेवहोस्टिंग खरीदना चाहते हैं, तो आप आसानी से कैशकरों वेबसाइट के माध्यम से विजिट करके गो डैडी, होस्टगेटर, बिगरॉक इत्यादि से अपने डोमेन खरीद सकते है, जिस पर आपको कैशकरो कैशबैक भी देगा।


  • - फैशन के उत्पादो की खरीद के लिए आपको अमेजन, मिन्त्रा, फ्लिपकार्ट, एजियों, नाइका इत्यादि वेबसाइट मिल जायेगीं जहां से आप आसानी से उक्त उत्पादों को खरीद सकते हैं।


  • - आप अपना अथवा अपने परिचित का हर बार रिचार्ज करके कैशबैक भी कमा सकते हैं। सिर्फ रिचार्ज ही नही, बल्कि डीटीएच बिल, इलेक्ट्रिसिटी बिल, गैस बुकिंग, पोस्टपेड बिल, गृह कर जमा करके भी आप कैशकरो से कैशबैक कमा सकते हैं। वर्तमान में पापुलर वेबसाइट  अमेजन आपको इसकी सुविधा प्रदान करती है। पहले मोबिक्विक, पेटीएम, फ्रीचार्ज इत्यादि वेबसाइट भी कैशबैक देती थी, परन्तु इस समय सिर्फ Amazon देती है।


  • - यदि आप केएफसी, जोमेटो, स्विगी आदि वेबसाइट से अपने लिए भोजन या नाश्ता मंगवाना चाहते हैं तो कैशकरों है न जो आपको कैशबैक के साथ-साथ ढेर सारे कूपन भी उपलब्ध करवाता है जिनका उपयोग करके आप डिस्काउंट के साथ-साथ अच्छा खासा कैशबैक भी कमा सकते हैं।


  • - यदि आप घर के फर्नीचर अथवा सजावट की सामग्री खरीदना चाहते हैं, तो आप कैशकरो के माध्यम से होमटाउन, रेनटिकल, स्नैपडील इत्यादि वेबसाइट पर विजिट करके उक्त उत्पादों को खरीदकर अच्छा खासा कैशबैक कमा सकते हैं।


ये सिर्फ कुछ ही पापुलर वेबसाइट जिन पर आपकों कैशबैक मिलता है, परन्तु ये सूची बहुत लम्बी है, कैश करों की वेबसाइट इस वक्त 1500 से भी ज्यादा कम्पनियां लिस्टेड है, जिन पर CashKaro के माध्यम से विजिट कर सकते है।


चित्रों के माध्यम से आप देख सकते है कि कैशकरो किस तरीके से कार्य करता है।

इसमें आपको आप देख सकते है, कि जब आपके द्वारा कोई ट्रान्सेक्शन किया जाता है तो वह पेन्डिंग स्टेटस में दिखायी देता है, परन्तु जैसे ही वह कन्फर्म हो जाता है तो आपको यहां पर यह दूसरे रंग में दिखायी पड़ने लगता है।


प्रथम चित्र

क्या खरीदारी करके भी पैसे कमाये जा सकते है? शॉपिंग करके भी पैसा कमाने का तरीका आप सभी को पता होना चाहिए।


में आप देख सकते है कि कैशकरों के कस्टमर द्वारा कैशबैक तथा रिवार्ड के रूप में कितनी धनराशि कमाई गयी है।


द्वितीय चित्र

क्या खरीदारी करके भी पैसे कमाये जा सकते है? शॉपिंग करके भी पैसा कमाने का तरीका आप सभी को पता होना चाहिए।


में आप देख सकते है कि रिवार्ड जब कन्फर्म हो जाता है, तो ये हरे रंग में दिखायी पड़ता है और लिखकर आता है कन्फम्ड लिखकर आता है।


तृतीय चित्र 

क्या खरीदारी करके भी पैसे कमाये जा सकते है? शॉपिंग करके भी पैसा कमाने का तरीका आप सभी को पता होना चाहिए।


में भी आप देख सकते है कि उक्त कैशबैक में उक्त धनराशि भुगतान कर दी गयी है।


आशा है कैशबैक से जुड़ी उक्त जानकारी आप सभी को पसन्द आयी होगी,

आज के दौर में शॉपिग सभी करते है, लेकिन स्मार्ट शॉपिंग बहुत ही लोग करते है, यदि आप भी आज से हर खरीददारी पर कैशबैक कमाना चाहते है, तो आज से ही ज्वाइन कीजिए, और कमाना प्रारम्भ कर दीजिए।




















 

21/6/21

इंटरनेट से पैसा कमाने का सबसे आसान और सरल तरीका, इसको करके आप भी ढेर सारा पैसा कमा सकते है। जानिये कैसे?

इंटरनेट से ज्यादा पैसे कैसे कमायें।

इंटरनेट के इस दौर में आज प्रत्येक व्यक्ति पैसा कमाने के लिए लगा हुआ है, और प्रतिदिन इंटरनेट पर पैसा कमाने के नये-नये तरीके सीखता रहता है।

इंटरनेट से पैसा कमाने का सबसे आसान और सरल तरीका, इसको करके आप भी ढेर सारा पैसा कमा सकते है। जानिये कैसे?




पैसा कमाने के लिए इंटरनेट पर बहुत माध्यम है, जिनके माध्यम से आप आसानी से ढेर सारे पैसे कमा सकते है। लेकिन कहते है ना किसी भी कार्य का कोई शार्टकट नही होता, उसके लिए निरंतर प्रयास करने की जरूरत होती है, जिसके बिना आप कुछ भी नही कर सकते है।

आज इंटरनेट पर लोग वीडियों बनाकर, ब्लॉग बनाकर, वेबसाइट बनाकर, सर्वे पूरे करके, ट्वीट करके, रिव्यू पोस्ट करके पैसा कमा रहे हैं।

इसके अलावा भी इंटरनेट पर लोग अन्य कई माध्यमों से पैसा कमा रहे हैं।


आज हम उन्हीं में  5 सबसे बेहतरीन माध्यमों के बारे में बात करेंगे। जिनके माध्यम से युवा ढेर सारा पैसा कमा भी रहे हैं।


यूट्यूब Youtube:

गूगल की सबसे ज्यादा पापुलर सेवा यूट्यूब जिस पर करोड़ों लोगों के द्वारा काम  करके पैसा कमाया जा रहा है। यूट्यूब एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां पर प्रतिदिन करोड़ों का ट्रैफिक आता है, प्रतिदिन यूट्यूब पर करोड़ों वीडियों अपलोड किये जाते है, जिन्हें करोड़ों लोग देखते भी है।

यूट्यूबर द्वारा डाले उक्त वीडियों में चलने वाले एड्स (विज्ञापन) से गूगल की तथा उस यूट्यूबर की आय होती है, जिस यूट्यूबर द्वारा उक्त वीडियों अपलोड की जाती है। यूट्यूब पर जिसके सबसे ज्यादा सब्सक्राइबर्स होते है, उसकी सबसे ज्यादा रेवेन्यू जेनरेट होने के चांस रहते हैं। आज ऐसे बहुत सारे यूट्यूबर है जो महीने के लाखों रूपये सिर्फ यूट्यूब के माध्यम से कमा रहे है।

आप भी यूट्यूब से पैसा कमा सकते है, बस आपको एक ऐसा यूट्यूब चैनल बनाना है, जो दूसरों से काफी अलग हो, और जिसमें आप बेहतरीन वीडियो पोस्ट करे, जिन्हें लोग देखने के बाद उसे शेयर भी करें, जिससे उक्त वीडियों कई लोगों तक पहुंचे और आपके व्यूज भी बढ़े।

जैसे-जैसे आपके यूट्यूब चैनल पर Views आने लगेगें, तो आपको AdSense का अप्रूवल भी मिल जायेगा। और आपको आमदनी होने लगेगी।

उदाहरण के लिए बस इतना समझिये "जितना ज्यादा ट्रैफिक उतना ज्यादा रेवेन्यू।" बस आपका कंटेट कैची होना चाहिए और Unique होना चाहिए, जिससे एक नजर पड़ते ही उस पर क्लिक करने का मन हो जाये।


एफीलियेट मार्केटिंग Affiliate Marketing:- 

आज के युवा एफीलियेट मार्केटिंग के माध्यम से भी ढेर सारा पैसा कमा रहे हैं। इसके माध्यम से एक ब्लॉगर या रिव्यूवर अपनी वेबसाइट पर किसी भी उत्पाद के बारे में बताता है, और अपनी वेबसाइट के माध्यम से ही उक्त उत्पाद को खरीदने हेतु लिंक उपलब्ध करवाता है, उस लिंक पर क्लिक करके यदि कोई उपभोक्ता उक्त उत्पाद को खरीद लेता है, तो उसका कुछ कमीशन कम्पनी उस ब्लॉगर को भी देती है, जिसकी वेबसाइट पर क्लिक उस उत्पाद को खरीदा गया है। आज बहुत सारी कम्पनियों से जुड़कर आप भी एफीलियेट मार्केंटिग के माध्यम से पैसा कमा सकते है।

आपको कुछ एफीलियेट मार्केटिंग की वेबसाइट जैसे अमेजन, या फ्लिपकार्ट पर रजिस्टर करना है उसके बाद उनके उत्पादों को अपनी वेबसाइट पर प्रमोट करना है, और आपके द्वारा प्रमोट किये गये उत्पाद पर क्लिक करके यदि कोई उस सामान को खरीद लेगा तो आपको भी उसका कमीशन प्राप्त होगा।


सर्वें पूरे करके पैसा कमाना  Earn Money by Completing Surveys:-

      बहुत सारी कम्पनियां किसी भी उत्पाद को बाजार में लांच करने से पहले लोगों के विचार, फीडबैक आदि लेती है कि वास्तव में जनता की क्या मांग है, इसके लिए उनके द्वारा ऑनलाइन सर्वे जारी किये जाते है, जिस पर लोग अपना अभिमत देते है। उनके द्वारा दिये गये मतों के आधार पर ही कम्पनियां उत्पादों को जारी करती है।

इसके अलावा अन्य सर्वे भी कम्पनियों द्वारा लोगों से करवाये जाते है। शिक्षा से जुड़े हुये, ऑनलाइन शॉपिग से जुड़े हुये सर्वे, सोशल नेटवर्किग के प्रयोग से जुड़े हुये सर्वे आदि में लोगों को शामिल किया जाता है। उक्त सर्वे में भाग लेने पर कम्पनी कुछ धनराशि वो चाहे पाइंट के रूप में हो अथवा धनराशि के रूप में देती है।

आप चाहे तो उक्त सर्वे में भाग लेकर भी अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं। बस इन सर्वे साइट पर आपको अपना अकाउन्ट बनाना है और अपनी राय देनी है और आपकी अर्निग चालू हो जायेगी।

कुछ सर्वे साइट्स इस प्रकार है।






ब्लॉगिंग से पैसा कमानाः Earn money from Blogging


आज बहुत सारे युवा ब्लॉगिग के क्षेत्र में उतर चुके है, और अपनी-अपनी रूचियों के अनुसार अपने ब्लॉग को बनाकर उन पर आर्टिकल लिखकर अच्छा पैसा कमा रहे हैं।

यदि आपकी रूचि लिखने में है और किसी विषय पर आपकी अच्छी पकड़ है तो आप भी अपना ब्लॉग बनाकर पैसा कमा सकते है। बस आपकी जिस भी क्षेत्र में रूचि हो, उस विषय पर अपना ब्लाग लिखना प्रारम्भ कर दे, और यूनीक आर्टिकल लिखे। किसी के भी लेख को चुराने का प्रयास बिल्कुल भी न करें। नही तो आपका अकाउन्ट सस्पेंड भी हो सकता है, और आप पर कॉपीराइट एक्ट के तहत कार्यवाही भी हो सकती है।

जब आपकी वेबसाइट पर लोग आयेगे तो आप एडसेंस के लिए अप्लाई कर सकते हैं। और अप्रूवल मिलते ही आप कमाना भी प्रारम्भ कर सकते है।


फ्रीलांसिंग से पैसे कमानाः Make money from freelancing

आज बहुत सारी ऐसी वेवसाइट है जिस पर आप एक फ्रीलांसर के रूप में रजिस्टर्ड होकर अपना काम शुरू कर सकते है।

फ्रीलांसिंग वेबसाइट पर आप जिस भी क्षेत्र में महारथी हो उससे सम्बन्धित अपना अकाउन्ट बनाये।

उदाहरण स्वरूप यदि आपकी लिखने में रूचि है आप अपने आपको एक कंटेट राइटर के रूप में रजिस्टर कर सकते है, जहां पर आप अपनी फीस भी तय कर सकते है। शुरूआत में आप कम फीस से चालू करें, यदि आपका काम बेहतर तरीके से चलने लगता है तो आप अपनी कीमत/फीस को बढ़ा सकते है।

आज बड़ी-बड़ी कम्पनियां ऐसे लोगों को इंटरनेट पर खोजती है जो कंटेट लिखने में पारंगत होते है। तो देखा आपने फ्रीलांसिंग से भी इंसान पैसा कमा सकता है।


यदि कमाई से जुड़ी ये युक्तियां आपको पसन्द आयी हो तो, कृपया कमेंट करके जरूर बताये।













20/6/21

AdSense इन की बातों के बारे में अभी जान लेना चाहिए अन्यथा अप्रूवल नही मिलेगा, Kyu nahi milta hai AdSense approval?

AdSense  इन की बातों के बारे में अभी जान लेना चाहिए अन्यथा अप्रूवल नही मिलेगा, Kyu nahi milta hai AdSense approval?



आखिर कैसे काम करता है एडसेंस?

गूगल की इससे कमाई कैसे होती है?


1998 में जब गूगल की शुरूआत हुई , तब किसी ने भी नही सोचा था कि एक दिन गूगल Google कंपनी दुनिया के सबसे बड़ी कम्पनी बन जायेगी, और उसका पूरी दुनिया पर एक छत्र राज्य होगा। और है भी।

आज गूगल के आगे सभी सर्च इंजन बौने ही नजर आते है, क्योंकि गूगल का Algorithm इतना तेज है कि उसकी गति के आगे कोई टिक ही नही सकता।

"दुनिया भर के कोने-कोने सर्च किये जाने वाले रिजल्ट का 65 से 70 प्रतिशत हिस्सा अकेले गूगल के प्लेटफार्म पर ही सर्च किया जाता है। और जब विश्व का इतना बड़ा ट्रैफिक गूगल पर आयेगा, तब दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनिया गूगल के पास ही तो आयेगी, और अपने उत्पादों का प्रचार करेंगी।


जब दुनिया की लगभग 70 प्रतिशत आबादी गूगल पर आती है तो बड़ी-बड़ी कंपनियों के उत्पाद के विज्ञापन दिखाकर ही गूगल की कमाई होती है। कैसे आइये जानते है।

गूगल की इस विज्ञापन देने वाली प्रदाता का नाम है (Google AdSense)गूगल एडसेंस।


  • क्या है गूगल एडसेंसः What is Google AdSense?

Google AdSense गूगल एडसेंस गूगल का ही एक उत्पाद है, जो दुनिया की छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी कंपनियों के विज्ञापन को दिखाने का कार्य करती है। गूगल एडसेंस द्वारा विश्व की कई करोड़ों Websites को गूगल द्वारा अपने नेटवर्क में जोड़ा गया है, जिस पर कोई भी अपनी वेबसाइट को जोड़कर गूगल एडसेंस के इस नेटवर्क से जुड़ सकता है। लेकिन इसके लिए उपभोक्ता के पास AdSense का अप्रूवल होना जरूरी है।


  • आखिर गूगल एडसेंस कार्य कैसे करता है?

Google AdSense एक विज्ञापन कंपनी या यूं कहें एक बड़ी एजेंसी के रूप में कार्य करने का काम करती है, जिसका कार्य विश्व के छोटे-बड़े ब्रांड को विज्ञापन के द्वारा दिखाना होता है, गूगल एडसेंस ये कार्य इन विज्ञापनों को दुनिया की करोड़ो वेबसाइट पर Publish करने का कार्य करती है, लेकिन ये कार्य उन्ही के लिए किया जाता है, जिनके पास एडसेंस का अप्रूवल होता है। किसी भी विषय की Website हो यदि वह अच्छे कंटेट उपलब्ध करवाती है, और लगातार एक्टिव भी रहती है तो इस प्रकार की Website को Approval मिलने में किसी भी प्रकार की परेशानी नही होती है।


  • क्या एडसेंस का अप्रूवल सिर्फ अंग्रेजी ( English )भाषा को ही मिलती है?

नही, अब ऐसा बिल्कुल भी नही है, पहले गूगल सिर्फ अंग्रेजी की बेवसाइट को ही एडसेंस का अप्रूवल देता था, परन्तु गूगल को ये बात मालूम है कि भारत एक विशालतम देश है, और यहां की ज्यादातर आबादी मातृ भाषा हिन्दी को ही पसन्द करती है, और गूगल पर हिन्दी भाषा में ही कंटेन्ट को सर्च किया जाता है, इन सबको देखते हुए गूगल ने हिन्दी भाषा की Website पर भी एडसेंस का अप्रूवल देना प्रारम्भ कर दिया, जिससे आज गूगल पर हिन्दी भाषा की लाखों वेबसाइट उपलब्ध है, जिन पर करोड़ों की संख्या में लेख उपलब्ध है।


   सिर्फ हिन्दी ही नही हमारे भारतवर्ष में कई भाषाएं बोली जाती है जैसे: बंग्ला, पंजाबी, मराठी, उड़िया, कन्नड़, नेपाली आदि और गूगल पर आज इन सभी भाषाओं में भी लोग सामग्री को ढूढ़ने लगे है। और वो उन्हीं भाषाओं (स्थानीय भाषाओं) में लेख पढ़ना पसन्द करते हैं, जो उनके राज्य में ज्यादा प्रचलन में है।

क्योंकि मराठी भाषा का जानकार कन्नड़ भाषी लेख को पढ़कर क्या करेंगा। उसे तो सिर्फ अपनी मराठी भाषा में ही कंटेट चाहिए।


  • कैसें मिलता है एडसेंस का अप्रूवल, और कौन ले सकता है इसका अप्रूवल?

आज कई यूट्यूबर और ब्लॉगर अपना ब्लॉग और वेबसाइट बनाकर अच्छा पैसा कमा रहें हैं और लेकिन ये सब हो रहा है सिर्फ एडसेंस अप्रूवल की वजह से। एडसेंस अप्रूवल लेने के लिए आपकी बेवसाइट अथवा चैनल बेहतर होनी जरूरी है,और जिस भी विषय पर आप काम कर रहे हैं उसी Niece पर आपको काम करते रहना चाहिए, जब आपके आर्टिकल सर्च रिजल्ट में दिखायी देने लगेंगे, और आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक आने लगेगा, तब आप एडसेंस अप्रूवल के लिए अप्लाई कर सकते हैं। वैसे एडसेंस का अप्रूवल 7 से 10 दिनों में मिल जाता है, परन्तु इधर देखा गया है, यदि आपकी Website अच्छे आर्टिकल उपलब्ध कराती है, तो गूगल को ये लगेगा कि आपका आर्टिकल Unique है।


""एक बात का जरूर ध्यान रखे, किसी के भी कंटेट को चोरी करने का प्रयास बिल्कुल भी न करें, क्योंकि गूगल का Algorithm इतना बेहतर है कि वो आपकी चोरी को पकड़ सकता है कि आपने किसी का कंटेट कॉपी करके पेस्ट कर दिया है। किसी के कंटेट को चोरी करने पर आप पर Copyright Act के तहत कार्यवाही भी हो सकती है।""


इसलिए बेहतर यही होगा, जिस विषय पर आपकी बेहतरीन रूचि हो, उसी पर अपना आर्टिकल लिखने का प्रयास करें। बेहतर लेखन से आपको एडसेंस का अप्रूवल लेने से कोई भी नही रोक पायेगा।


  • एडसेंस अकाउंट को वेबसाइट से लिंक करनाः
  • Linking AdSense Account to Website:

एडसेंस का अप्रूवल मिलने के बाद बारी आती है अपने एडसेंस अकाउन्ट को अपनी वेबसाइट से लिंक करने की.

लिंक करने की ये प्रक्रिया आसान है जिसके बारे में आज यूट्यूब पर बहुत सारी वीडियों उपलब्ध है जिन्हें देखकर आप आसानी से अपने ब्लॉग को एडसेंस अकाउन्ट से जोड़ सकते हैं। बिना इसके आप किसी भी प्रकार का भुगतान नही ले पायेगें। ये ठीक उसी प्रकार से कार्य करता है जिस प्रकार से आप किसी सरकारी सब्सिडी का लाभ लेने हेतु अपने बचत खाते को आधार से जोड़ते हैं। इसलिए एडसेंस अप्रूवल मिलने के बाद अपनी वेबसाइट/ब्लॉग को एडसेंस से जोड़ना बिल्कुल भी न भूले। जोड़ने के बाद आपकी वेवसाइट पर कम्पनियों के विज्ञापन दिखायी देने लगेंगे, और उन विज्ञापनों के माध्यम से आपको कमाई होने लगेगी।


  • अपने बैंक अकाउंट को एडसेंस अकाउन्ट से लिंक करनाः
  • Linking your bank account with AdSense account:

अभी तक आपने अपने वेबसाइट को एडसेंस अकाउन्ट से लिंक करना सीखा, परन्तु जब तक आप अपने बैंक के बचत खाते को एडसेंस अकाउन्ट से लिंक नही कर देते हैं तब तक आपको किसी भी प्रकार का भुगतान प्राप्त नही होगा, इसके लिए जरूरी है आप अपने बैंक के बचत खाते को (जिस भी अकाउन्ट में आप भुगतान चाहते है।)एडसेंस अकाउन्ट से लिंक करें, क्योंकि तभी आपको अपने बचत खाते में धनराशि प्राप्त होगी।

    यहां पर ये भी बताना जरूरी प्रतीत होता है कि जब आपके एडसेंस अकाउंट में 100$ डॉलर हो जाते है, तब आपके अकाउन्ट में पैसे आ जाते है। आपको बता दे कि वर्ष 2014 तक लोगों को उनकी कमाई का पैसा चेक के माध्यम से ही भेजता था।

परन्तु अब टेक्नोलॉजी के इस दौर में चेक का जमाना गया, और सारे पेमेन्ट ऑनलाइन ही होते हैं।

बस आपको अपने एडसेंस अकाउंट के पेमेन्ट सेटिंग में जाना है और वहां पर जाकर समस्त जानकारी पूरी तरह से सही भरनी है। यथा आपके अकाउन्ट में जो नाम है लिखा है, वहीं आपको अपने उक्त फार्म में लिखना होगा।

नाम Name: 

बैंक का नाम Bank Name:

आई.एफ.एस.सी कोड I.F.S.C Code: 

स्विफ्ट कोड Swift Code:

अकाउन्ट नम्बर अकाउंट Account Number:


उक्त समस्त जानकारी आपको बहुत होशियारी से भरनी होगी।

उक्त समस्त जानकारी आपको अपने चेक बुक अथवा पासबुक पर मिल जायेगी, परन्तु विदेश से डॉलर के रूप में भुगतान करने हेतु आपके पास स्विफ्ट कोड (Swift Code)  भी होना जरूरी है, जिसके लिए आप अपने बैंक की शाखा से संपर्क कर सकते है।


लीजिए आप पूरी तरह से तैयार भुगतान प्राप्त करने के लिए।

चूंकि गूगल के उत्पाद के बारे में विस्तार से बात करना संभव ही नही है, यहां पर सिर्फ संक्षेप में यही बताने का प्रयास किया गया है AdSense काम कैसे करता है और इसके माध्यम से किस प्रकार से आमदनी की जा सकती है।

आशा है आपको उक्त एडसेंस से जुड़ी उक्त जानकारी पसन्द आयी होगी।










































17/6/21

व्हाट्सएप WhatsApp सिग्नल Signal तथा टेलीग्राम Telegram में कौन है बेहतर और क्या खासियत है तीनों की अभी जानिये।

व्हाट्सएप, सिग्नल तथा टेलीग्राम में कौन है बेहतर,क्या खासियत है तीनों की?

Who is better in WhatsApp, Signal and Telegram, what is the specialty of all three?

व्हाट्सएप WhatsApp, सिग्नल  Signal तथा टेलीग्राम Telegram में कौन है बेहतर,क्या खासियत है तीनों की? अभी जानिये।


तकनीकी के इस दौर में हर व्यक्ति संदेश भेजने हेतु कई प्रकार के मैसेंजर एप का प्रयोग कर रहा है। वह एक दूसरे को संदेश भेजने, वीडियो भेजने, डॉक्यूमेंट भेजने, इन सभी कामों के लिए मैसेंजर एप का प्रयोग करता है। वैसे बहुत सारे एप्लीकेशंस और सॉफ्टवेयर है, जो एप स्टोर और प्ले स्टोर दोनों पर मौजूद है। 


संदेश भेजने हेतु यदि सबसे पहले किसी एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर का नाम आता है तो वो है वॉट्सएप का। वॉट्सएप एक बेहतरीन मेसेंजिग एप है जिसकी मदद से आप वीडियों, आडियो, टेक्स्ट, डॉक्यूमेंट इत्यादि को सिंगल क्लिक पर विश्व के किसी भी कोने में भेज सकते हैं। व्हाट्सएप के अलावा  और भी ऐसे एप्लीकेशन प्ले स्टोर और एप स्टोर पर मौजूद है जो व्हाट्सएप से कुछ मामलों में बेहतर है तो कुछ मामलों में कम।

ऐसे ही 2 Application है जिसका नाम है TELEGRAM  और दूसरा है SIGNAL ये दोनों एप्लीकेशन प्ले स्टोर पर मौजूद है और आसानी से डाउनलोड भी किये जा सकते हैं।


"Telegram" एक ऐसा एप्लीकेशन जिसके माध्यम से हम संदेश को भेज सकते हैं। बड़ी-बड़ी फाइलों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित कर सकते हैं।

 

इसके अलावा भी एक अभी हाल ही में एप्लीकेशन लांच हुआ है जिसकी चर्चा काफी ज्यादा हुई थी। उसका नाम है "Signal"


व्हाट्सएप को लेकर उसकी प्राइवेसी पॉलिसी के बारे में बहुत हंगामा मचा था जिसके कारण कई लोग व्हाट्सएप को छोड़ने की बात कर रहे थे। यहां तक कि Elon Musk टेस्ला कंपनी के C.E.O (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) है जिन्होनें लोगों को Signal डाउनलोड करने की सलाह दी थी।


आज हम इन्हीं तीनों एप्लीकेशन के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे-

कि..

  • इन तीनों में सबसे बेहतरीन एप्लीकेशंस कौन है?
  • इन तीनों में कौन कौन से अंतर है?
  • ये तीनों एप्लीकेशन किन मामलों में एक दूसरे से बेहतर है?

सबसे पहले बात करते है, मोस्ट पॉपुलर एप्लीकेशन WhatsApp की, जो 2009 में लांच किया गया था, और आज इसके 2 अरब से भी ज्यादा वैश्विक उपभोक्ता है, जो कि दुनिया के कोने-कोने से आते है।

व्हॉट्सएप दुनिया का बहुत ही ज्यादा प्रयोग में लाया जाने वाला एप्लीकेशन है, जिस पर प्रतिदिन करोड़ों की संख्या में ट्रैफिक आता है, और इसके करोड़ों एक्टिव यूजर भी है। जिनके दिन की शुरूआत ही व्हाट्सएप से होती है।

बिजनेस इनसाइडर रिपोर्ट की माने तो दुनिया में सबसे ज्यादा व्हाट्सएप के उपभोक्ता भारत से ही है, दूसरे नम्बर पर ब्राजील तथा तीसरे नम्बर पर यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका आता है।

व्हाट्सएप के हेड विल कैथकार्ट के अनुसार व्हाट्सएप पर लगभग 175 मिलियन से भी ज्यादा लोग प्रतिदिन संदेश भेजते और प्राप्त करते हैं।
जो कि एक बहुत बड़ी संख्या को दर्शाता है। वर्तमान में व्हाट्सएप का स्वामित्व फेसबुक के पास है।


आइये अब बात करते हैं टेलीग्राम की।

"टेलीग्राम एक ओपेन सोर्स, और क्लाउड बेस्ड इंन्स्टेन्ट मेसेजिंग एप्लीकेशन है" जिसकी स्थापना आई.ओ.एस के लिए अगस्त, 2013 में तथा एंड्रायड के लिए सितम्बर, 2013 में की गयी थी। वर्तमान में इसके मुख्य कार्यकारी अधिकारी पावेल वेलेरिविच डुरोवी Pavel Valerievich Durov जी है।

डुरोवी के अनुसार जनवरी, 2021 तक प्रतिमाह टेलीग्राम के 500 मिलियन एक्टिव यूजर हो गये। ये भी एक बहुत बड़ी संख्या को दर्शाता हैं। टेलीग्राम व्हाट्सएप की तरह पूरी तरह से एंड-टू-एंड इन्क्रिप्टेड नही है, लेकिन आप इसमें सीक्रेट चैट जरूर क्रियेट कर सकते हैं।


आइये अब बात करते हैं Signal की:-

Signal तब चर्चा में आया जब WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर बहुत बवाल हुआ था, उस वक्त टेस्ला कंपनी के C.E.O Elon Musk ने भी लोगों से अपील की थी कि व्हाट्सएप की जगह पर लोग Signal का प्रयोग करें।

सिग्नल भी व्हाट्सएप और टेलीग्राम की तरह मैंसेजिंग एप्लीकेशन है, जो सुरक्षित तरीके से लोगों को संदेश भेजने की सुविधा प्रदान करता है। जो कि आधिकारिक रूप से 2014 में लांच किया गया था।

ये तीनों एप्लीकेशन अपनी-अपनी जगह पर बिल्कुल ठीक है, बस कुछ अन्तर को छोड़करः

आइये इन तीनों एप्लीकेशन में कौन-कौन से अन्तर है, जो इन सभी तीनों एप्लीकेशन को एक दूसरे से अलग बनाते हैं।

  • व्हाट्सएप जो सबसे पॉपुलर एप्लीकेशन है, जिसमें यदि आपको लोगों को जोड़ना हो, तो एक बार में 256 लोगों को ही जोड़ा जा सकता है। इसके विपरीत टेलीग्राम में अधिकतम आप 2 लाख फॉलोवर को जोड़ सकते है, वही सिग्नल सिर्फ 150 लोगों को जोड़ने की ही सुविधा प्रदान करता है।


  • व्हाट्सएप जिसके संदेश चाहे वह वीडियों रूप में हो या किसी भी रूप में पूरी तरह से एंड-टू-एंड इन्क्रिप्टेड होता है, परन्तु नई प्राइवेसी पॉलिसी में ऐसा होने की संभावना कम है, वही सिग्नल भी इन्क्रिप्टेड लाइन ही प्रोवाइड करवाता है, चूंकि टेलीग्राम एक ओपेन सोर्स प्लेटफार्म है, इसलिए यदि आप इंडिविजुअली किसी से वार्ता करते है, अथवा किसी डाटा का आदान प्रदान करते है, तो आपको सिक्योंरिटी मिलती है।


  • व्हाट्सएप में 100 एमबी तक की फाइल को ही भेजा जा सकता है, लेकिन टेलीग्राम में 2 जीबी तक की फाइलों को आसानी से भेजा जा सकता है।


  • व्हाट्सएप में आपको स्टेटस लगाने की सुविधा मिल जाती है, परन्तु टेलीग्राम में ऐसा बिल्कुल भी नही है।


  • व्हाट्सएप में हम जो भी इमेजेस अथवा वीडियों भेजते है, वो हमेशा कंप्रेस होकर जाती है, जिसके कारण प्राप्त करने वाले को बेहतरीन क्वालिटी नही मिल पाती है। परन्तु टेलीग्राम में आप चाहे तो कंप्रेस करके अथवा बिना कंप्रेस किये भी फाइलों को भेज सकते हैं। सिग्नल में भी ऐसा ही है।


वैसे देखा जाये तो इन तीनों एप्लीकेशन में बहुत सारे अंतर भी दिखायी पड़ते है, परन्तु जों विशेष रूप से एक दूसरे से अलग है, उनके बारे में ही आपको बताया गया है।

आपको बता दें कि अभी हाल ही WhatsApp Application की Privacy policy को लेकर बवाल मचा हुआ है, उक्त पॉलिसी के कारण लोगों में रोष भी व्याप्त है, उसका कारण है लोगों का डाटा।

अर्थात् उक्त पॉलिसी के तहत व्हाट्सएप हमारे सारे डाटा को फेसबुक तथा अन्य थर्ड पार्टी एप के साथ साझा कर सकती है। क्योंकि इससे लोगों की जनभावना को ठेस पहुंचने का डर है, और लोगों की महत्वपूर्ण जानकारियां साझा होने का भी डर है। जिसका लाभ कई Advertising Company उठा सकती है।

परन्तु एक बात स्पष्ट है, नई पॉलिसी को भी कई लोगों के द्वारा स्वीकार कर लिया गया है, क्योंकि उन्हें लगता है कि सिर्फ व्हाट्सएप ही नही, ऐसी बहुत सारी एप्लीकेशन भी जो हमारे डाटा का प्रयोग करती है, हमारे समस्त डाटा को देखती है।

अब देखना है कि सरकार की इस दिशा में क्या नीति रहती है,, क्योंकि सरकार भी नही चाहती है, कि उसके देश के नागरिकों का डाटा देश के बाहर जाये।
आशा है आपको इन तीनों एप्लीकेशन के बारे में अन्तर स्पष्ट रूप से समझ में आ गये होगें।













16/6/21

क्या है व्हाट्सएप का end-to-end encrypted, और ये कैसे काम करता है, कैसे इसको इनेबल करते हैं?

 

क्या है व्हाट्सएप का end-to-end encrypted, और ये कैसे काम करता है, कैसे इसको इनेबल करते हैं?


आज दुनिया में दो अरब से भी ज्यादा एक्टिव यूजर है जो व्हाट्सएप का उपयोग करते हैं। जिनमें में से 30 प्रतिशत से भी ज्यादा ग्राहक भारत से आते है, जो अपनी दिनचर्या में व्हाट्सएप का प्रयोग करते है। परन्तु उन्हें व्हाट्सएप के सीक्रेट विशेषताओं के बारे में नही मालूम होता है। इस लेख में आपको व्हाट्सएप के एक नही बल्कि 5 ऐसे महत्वपूर्ण फीचर के बारे में बताने का प्रयास किया जायेगा, जिनके बारे में आप सभी को जरूर पता होना चाहिए।


1- क्या है एंड टू एंड इन्क्रिप्शन, और कैसे काम करता है?

देखिये जब 5 अप्रैल, 2016 को व्हाट्सएप का 2.16.14 वर्जन का अपडेट आया था, तब व्हाट्सएप एक नया फीचर लेकर आया था, जिसका नाम था, एंड टू एंड इन्क्रिप्शन.

जिसके बाद व्हाट्सएप के चैट पूरी तरह से सिक्योर हो गये थे, अर्थात् उसके बाद यदि आप किसी से व्हाट्सएप के माध्यम से चाहे वह चैट के रूप में हो या वीडियो कॉल के रूप में हो। पूरी तरह से इन्क्रिप्टेड हो गया था।

यदि आप किसी को कोई PHOTO, VIDEO, TEXT, DOCUMENT भी भेजते थे तो वह भी पूरी तरह से End-to-End encrypted हो जाते थे, अर्थात् उन्हें न तो स्वयं व्हाट्सएप पढ़ सकता था, और न ही कोई थर्ड पार्टी एप.

इसलिए ये एक बेहतरीन फीचर्स के रूप में लोगों के सामने आया। 
जब आप किसी Individual को S.M.S सेंड करते है, और उसके चैट बॉक्स में जाते है, तो आपको एक पॉपअप मैसेज दिखायी देता है,

"Messages you send to this chat and calls are now secured with End-to-end encryption"
Tape for more info.

अर्थात् आप जो भी बात करने जा रहे हैं वह पूरी तरह से सिक्योर है।

सिक्योरिटी के लिए ये जरूरी है कि आपके मोबाइल में और जिससे आप वार्ता करना चाहते है, उनके मोबाइल के सिक्योरिटी की एक समान होने चाहिए, यदि आपका मित्र नजदीक है तो आप उसके सिक्योरिटी कोड को स्कैन भी कर सकते है। स्कैन करते ही आप दोनों के मध्य एक इन्क्रिप्टेड लाइन जुड़ जायेगी, जिसके बाद आप सिक्योर तरीके से अपने मित्र से बात कर पायेगें, और आपके मेसेसेज को न तो व्हाट्सएप पढ़ेगा, और न ही कोई थर्ड पार्टी एप।


2. स्टार्ड मैसेज Stared Massages:

व्हॉट्सएप में कभी-कभी ऐसा होता है कि हमें कोई संदेश/विडिया/फोटोज इत्यादि बहुत पसन्द आ जाता है, जिसे हम बाद में भी पढ़ने के इच्छुक रहते है, क्योंकि कई संदेशों के बीच वह संदेश भी कहीं खो जाता है, जिसे खोजने की मशक्कत करनी पड़ती है। इसके समाधान के लिए आप किसी भी मैसेज/वीडियो अथवा फोटो पर लांग प्रेस करें, लांग प्रेस करते ही आपको ऊपर की तरफ दाहिनी ओर एक स्टार का आइकन दिखायी देगा, उस पर क्लिक करते ही आपका संदेश स्टार्ड हो जायेगा, अर्थात् आपकी फेवरेट सूची में चला जायेगा, जिसे आप आसानी से निकालकर किसी भी समय पढ़ सकते है।


3.चैट बैकग्राउंडः Chat Background 

क्या आप भी अपने व्हाट्सएप के बैकग्रांउन्ड को परिवर्तित करना चाहते है, तो कुछ भी नही करना है इसके लिए सर्वप्रथम आप ऊपर दाहिनी तरफ सेटिंग में जाये, फिर चैट में जॉये, तत्पश्चात् वॉलपेपर का चुनाव करें, चेंज वॉलपेपर पर जाये। जहां पर आपकों चार प्रकार के ऑप्शन दिखायी पड़ेगें। ब्राइट, डार्क, सॉलिड कलर्स तथा माई फोटोज इनमें से आप किसी का भी चुनाव करके वॉलपेपर सेट कर सकते हैं। मॉई फोटोज के माध्यम से आप अपनी किसी भी फोटो का चयन कर सकते हैं.



4. बिना इंटरनेट के संदेश को पढ़ना।

यदि आप किसी के द्वारा भेजे गये एस.एम.एस को पढ़ना चाहते है, और ये भी चाहते है कि उसे बिल्कुल भी पता न चले, तो आप ऐसा कर सकते है, इसके लिए आपको कोई भी संदेश प्राप्त होता है तो सर्वप्रथम आप एरोप्लेन मोड को इनेबल कर लें, ऐसा करते ही आप संदेश पर जाये, और उसे पढ़ लें, संदेश भेजने वाले के पास डबल ब्लू टिक भी नही दिखेगा, और आपके द्वारा संदेश को पढ़ भी लिया जायेगा।



5. वाट्सएप फिंगरप्रिंट लॉक- WhatsApp Fingerprint Lock

सुरक्षा की दृष्टि आज हर व्यक्ति अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म को लॉक करके रखना पसन्द करते है, लेकिन बहुत लोग इसके बारे में जानते भी नही है कि वॉट्सएप को भी फिंगरप्रिंट लगाकर सुरक्षित किया जा सकता है।
सर्वप्रथम सेंटिंग में जाये फिर अकाउन्ट में जायें तत्पश्चात् प्राइवेसी और फिर सबसे नीचे आपको फिंगरप्रिंट का ऑप्शन दिखायी देगा, उस पर क्लिक करते ही आप अपना व्हॉट्सएप फिंगरप्रिंट लगाकर लॉक कर सकते हैं। और सुरक्षा की दृष्टि से ये महत्वपूर्ण भी है।


















14/6/21

आखिर क्या है पेटेंट, कॉपीराइट और ट्रेडमार्क? इसके बारे में आप सभी का जानना बहुत जरूरी है। What are patents, copyrights and trademarks? It is very important for all of you to know about this.

आखिर क्या है पेटेंट, कॉपीराइट और ट्रेडमार्क? इसके बारे में आप सभी का जानना बहुत जरूरी है। What are patents, copyrights and trademarks? It is very important for all of you to know about this.

यदि   आप  पेटेंट,  कॉपीराइट  और   ट्रेडमार्क,  के  बारे  में  नही  जानते   तो   आपका   ज्ञान   अधूरा  है,   अभी   जानिये। 




अक्सर हम सभी ने कभी न कभी पेटेंट, कॉपीराइट या फिर ट्रेडमार्क के बारे में जरूर सुना होगा, और वास्तविक जीवन में भी ये उतने ही महत्वपूर्ण होते है जितना हम सभी जानते हैं।

पेटेंट Patent:   

जिसे हिन्दी भाषा में एकस्व भी कह सकते है, अर्थात् एकाधिकार। ये किसी भी देश अथवा सरकार के द्वारा किसी खोजकर्ता को किसी ऐसे आविष्कार के लिए दिया जाता है, जिसका आविष्कार अभी तक किसी के द्वारा नही किया गया हो। पेंटेंट को एक एग्रीमेंट के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है। 

यदि कोई व्यक्ति आविष्कार कर्ता द्वारा बनाये गये आविष्कार को बनाना चाहता है, तो उसे आविष्कार कर्ता से लाइसेंस लेना होता है, और उसे एक निश्चित धनराशि जो भी उसके द्वारा निर्धारित की गयी हो, देनी होती है। पेटेंट करवाने वाला व्यक्ति अपने पेटेंट को बेंच भी सकता है, क्योंकि वो उसका एकाधिकार होता है।

विश्व व्यापार संगठन अर्थात् वर्ल्ड ट्रेड आर्गनाइजेशन (World Trade Organization) द्वारा पेटेंट के लिए अब समय का निर्धारण कर दिया गया है, अर्थात् 20 वर्ष तक कोई भी आपके द्वारा सोचे गये या बनाये गये आविष्कार को न तो कॉपी कर पायेगा, और न ही बना पायेगा।


पेटेंट कितने प्रकार के होते हैं।

1. यूटीलिटी पेटेंट: Utility patent

2. डिजाइन पेटेट: Design Patent 

3. प्लान्ट पेटेण्ट: Plant Patent


क्या आप जानते है कि किन-किन चीजों का पेटेंट बिल्कुल भी नही किया जा सकता है?


1. प्राकृतिक चीजों का पेटेंट नही करवाया जा सकता है, जैसे हवा, पानी, पहाड़ इत्यादि

2. अमूर्त विचार अर्थात् Abstract Ideas अर्थात् ऐसे विचार जिनका वास्तविक जीवन से कोई भी वास्ता न हो, का पेटेंट भी नही करवाया जा सकता है।


कैसे मिलता है पेटेंटः

देखिये आज बड़ी-बड़ी स्मार्टफोन कंपनियां अपने बेहतरीन आइडिया को पेटेंट करवा रही है, जैसा अभी तक किसी के द्वारा बिल्कुल भी नही बनाया गया हो, किसी भी प्रोडक्ट अथवा विचार को पेटेंट करवाने के लिए सिर्फ दो बातें ही महत्वपूर्ण होती है और वो हैं, महत्वपूर्ण और सबसे अलग (जो पहले कभी नही बना हो)


सबसे अलग अर्थात् यूनिक होना चाहिए आपका पेटेंट , जो अभी तक किसी के द्वारा नही बनाया गया हो, और वो जनहित के लिए सबसे ज्यादा लाभकारी भी हो। इन दोनों बातों के होने पर ही आपको पेटेंट मिलता है, अन्यथा नही।


ट्रेडमार्क क्या हैः What is Trademark

ट्रेडमार्क किसी कम्पनी के लोगों, सिम्बल, चिन्ह, बनावट आदि का किया जा सकता है। ट्रेडमार्क भी पेटेंट और कॉपीराइट के तरह एक बौद्धिक संपदा के अर्न्तगत आता है।


बड़ी-बड़ी कम्पनियों जैसेः गूगल, याहू, एसबीआई, ओपेरा, क्रोम, ऑडी, कोकाकोला, पेप्सी इत्यादि के अपने खुद के लोगो और सिम्बल होते है, जिन्हें ये ट्रेडमार्क के तहत बौद्धिक संपदा के रूप में रजिस्टर करते है, जिसकी वैद्यता हमेशा रहती है, या जब तक कंपनी का अस्तित्व रहता है। 

इन तीनों में एक ही समानता है और वो ये है कि ये तीनों बौद्धिक संपदा के अर्न्तगत आते है, अन्तर सिर्फ इतना है कि पेटेंट किसी आविष्कार का किया जाता है, कॉपीराइट कोई म्यूजिक, आडियों आदि का किया जा सकता है, और ट्रेडमार्क किसी सिम्बल, लोगों, चिन्ह का किया जा सकता है।


  • कॉपीराइट क्या हैः- What is Copyright 

कॉपीराइट भी पेटेन्ट की तरह एक बौद्धिक संपदा (Intellectual property) है, जो कला, संगीत, लेखन आदि को प्रोटेक्ट करने का काम करता है। इस कॉपीराइट के तहत आप अपनी किसी भी कला, संगीत आदि को सुरक्षित कर सकते है, जिससे कोई भी आपकी उक्त कला बिना आपकी सहमति के प्रयोग कर ही नही पायेगा, और यदि वो ऐसा करने का प्रयास करता है तो वह कॉपीराइट एक्ट को उल्लंघन करेगा, और दण्ड का भागी होगा।


  • कब तक रहता है कॉपीराइटः 

कॉपीराइट इंसान के जीवित रहने तक, तथा उसकी मृत्यु के 70 वर्षो तक उसकी संपदा के रूप में रहता है, उसके बाद वो पब्लिकली लोगों के लिए उपलब्ध हो जाता है। 


  • किन चीजों पर कॉपीराइट एक्ट के तहत सुरक्षा मिलती है?

वर्तमान में आडियो या विजुअल का काम, टेलीविजन के धारावाहिक, किसी भी कलाकार के आवाज की रिकार्डिग, किसी कलाकार द्वारा बनाई गई पेन्टिंग, फिल्मों के पोस्टर, बैनर, या एडवरटाइजिंग बैनर इत्यादि को कॉपीराइट एक्ट के तहत सुरक्षा मिलती है, जिसके पास कॉपीराइट के अधिकार होते है, वो उन्हें कहीं पर बेचने के लिए स्वतंत्र होता है। 


  • उदाहरण के तौर पर आपने कभी न कभी ये जरूर सुना होगा कि फलां आई.पी.एल मैच के 40प्रतिशत अधिकार उक्त कंपनी के द्वारा खरीद लिये गये।


  • दूसरे उदाहरण के रूप में यदि कोई लेखक अपनी पुस्तक/किताब को कॉपीराइट के तहत सुरक्षित करता है, तो उसकी पुस्तक के किसी भी हिस्से को कोई भी दुबारा उसकी अनुमति के प्रयोग में नही ला सकता है। क्योंकि वह एक बौद्धिक संपदा के रूप में सुरक्षित है।


कॉपीराइट एक्ट 1957 के तहत किसी को भी अपनी रचनाओं और कला की सुरक्षा का अधिकार मिल जाता है, यदि कोई इसका उल्लंघन करता है, तो उसे इस एक्ट के तहत दंडित किया जा सकता है।


आशा है इन तीनों के बारे में आपको थोड़ी जानकारी हो गयी होगी।

यदि लेख पसन्द आया हो तो जरूर फॉलों करे, और टिप्पणी करें
















13/6/21

What is google Buzz? Kya Hai google Finance What is Google? गूगल क्या है, और कैसे काम करता है, गूगल की सभी सेवाओं/उत्पादों के बारे में एक क्लिक पर जानें।

गूगल की सभी सेवाओं/उत्पादों के बारे में एक क्लिक पर जानें।

What is google Buzz? Kya Hai google Finance What is Google? गूगल क्या है, और कैसे काम करता है, गूगल की सभी सेवाओं/उत्पादों के बारे में एक क्लिक पर जानें।


गूगल एक ऐसा नाम जिसके बारे में बच्चा-बच्चा जानता है। अर्थात् सारी समस्याओं का हल गूगल, सारी बीमारियों का इलाज गूगल, पढ़ना हो तो गूगल, लिखना हो तो गूगल, डिजाइन करना हो तो गूगल, खाना बनाना हो तो गूगल और कुछ भी सीखना हो तो गूगल।

गूगल के लिए किसी भी परिचय की जरूरत नही है, जिसके माध्यम से हम रोज नित नयी बाते सीखते रहते है, और लोगों को भी सिखाते रहते हैं। 

आइये संक्षेप में एक छोटी से परिभाषा के माध्यम से जानने का प्रयास करते है, कि गूगल क्या है।

गूगलः गूगल विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजन है, जो पूरे विश्व में प्रयोग में लाया जाता है, जिसके माध्यम से हम किसी भी प्रकार की सामग्री को गूगल के प्लेटफार्म पर खोज सकते हैं। इंटरनेट पर आज के समय में अरबों की संख्या में कंटेट उपलब्ध है चाहे वह वीडियो, आडियो, इमेज, डॉक्यूमेंट, या किसी भी फॉर्मेट में उपलब्ध हो, और हम सिर्फ एक क्लिक में सर्च कर सकते है, और उनके कई रिजल्ट हमारे सामने आ जाते हैं।

गूगल जिसकी स्थापना स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय कैलीफोर्निया, यू.एस.ए के दो ऐसे छात्रों लैरी पेज तथा सेर्गेई ब्रिन के द्वारा की गयी थी, जिसके बारे में संभवतः उन्हें भी नही पता रहा होगा, कि गूगल विश्व की सबसे बड़ी कम्पनी हो जायेगी।

गूगल के सफर को आगे बढ़ाने का श्रेय इन्हीं दो बेहतरीन छात्रों को ही जाता है, जिनकी वजह से आज सर्च इंजन की दुनिया में गूगल की बादशाहत कायम है, और संभवतः कायम ही रहेगी।

सन् 1998 में गूगल की स्थापना इन्हीं दो छात्रों के द्वारा की गयी थी, 1998 में शुरूआत के बाद गूगल ने पीछे मुड़कर नही देखा, जिसका नतीजा हम सभी के सामने है। आपको यह भी बता दे कि 1997 में गूगल डॉट कॉम का पंजीकरण हो गया था, 

एक छोटे से गैराज से शुरू हुआ गूगल का सफर आज पूरे विश्व के 50 देशों में 70 से भी ज्यादा जगहों पर उपलब्ध है। जिनमें से 4 ऑफिस हमारे भारत में भी है।

1. गुड़गांव, हरियाणा

2. मुम्बई महाराष्ट्र

3. हैदराबाद, तेलंगाना

4. बेंगलुरू, कर्नाटका


चूंकि इतने देशों में ऑफिसेस होने के कारण गूगल बेहतर तरीके से कार्य कर पाता है, इन सबके अलावा गूगल अपने कर्मचारियों के लिए विलासिता की वो सारी चीजें भी उपलब्ध करवाता है, जिसकी कल्पना शब्दों में नही की जाती है, इसी कारण गूगल के कर्मचारी बिना किसी तनाव के बेहतरीन तरीके से कार्य कर पाते हैं।

आज गूगल की इतनी सेवाएं उपलब्ध हो चुकी है, जिसके बारे में यदि हम बात करने लगेगें तो बहुत लम्बा समय व्यतीत हो जायेगा। फिर भी यहां पर कुछ ऐसी बेहतरीन सेवाओं के बारे में बताना उचित होगा, जिनके बारे में आप सभी को मालूम होना चाहिए।

  • गूगल क्रोमः सबसे ज्यादा पॉपुलर और प्रयोग में लाया जाने वाला ब्राउजर है जिसे करोड़ों लोग प्रयोग में लाते हैं, क्रोम गूगल के बेहतरीन उत्पादों में से एक है।


  • ब्लॉगरः ब्लॉगर गूगल की सबसे विश्वसनीय और भरोसेमंद ब्लॉग बेवसाइट है, जिस पर कोई भी अपना ब्लॉग बनाकर अपने विचारों को लिख सकता है, इसके लिए सिर्फ एक जीमेल अकाउंट की जरूरत पड़ती है।


  • जीमेलः गूगल मेल अथवा जीमेल गूगल की ऐसी सेवा है, जिसके बारे में कुछ भी कहना कम ही पड़ेगा, आज पूरे विश्व में इसके 1.5 बिलियन से भी ज्यादा ग्राहक है, और प्रतिदिन करोड़ों की संख्या में मेल भेजे और प्राप्त किये जाते हैं।


  • गूगल ड्राइवः एक ऐसी सेवा जो आपके सभी महत्वपूर्ण डाटा यथा फोटो, वीडियो, डॉक्यूमेंट आदि को संजोकर रखता है, जिन्हें आप विश्व में कहीं भी बैठे हो, एक्सेस कर सकते हैं। आप आसानी से इसमें 15 जीबी तक फ्री डाटा को अपलोड किया जा सकता है। उसके बाद यदि आपको अतिरिक्त स्पेस की जरूरत है, तो आप कुछ भुगतान करके एक्ट्रा क्लाउड स्पेस खरीद सकते हैं।


  • गूगल फोटोजः गूगल फोटोज में आपकी समस्त फोटोज और वीडियोज का बैकअप रहता है, बैकअप के लिए जरूरी है कि आपका अकाउन्ट सिंक होता रहे, जिससे आपके फोटो और वीडियोज आसानी से सिंक होकर गूगल फोटोज में सेव होते रहते हैं।


  • गूगल डॉक्सः एक ऐसी सर्विस जो माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, एक्सेल और पॉवर पाइंट जैसा पूरा अनुभव आपको देता है, गूगल डॉक्स की मदद से आप बिना वर्ड, अथवा पावर पांइट के अपने वो समस्त कार्य जो आप माइक्रोसॉफ्ट में करते है, वो इसमें कर पायेगें।


  • यू-ट्यूबः इस सेवा से कौन परिचित नही है, यू-ट्यूब जो कि गूगल की ऐसी बेहतरीन सेवा, जिसकी वजह से कई लोगों का रोजगार भी जुड़ा हुआ है, आज करोड़ो की संख्या में यूट्यूबर है, जो अपनी नीस से रिलेटेड विडियों बनाकर यूट्यूब पर डालते रहते है, जिसकी वजह से वो अच्छा खासा पैसा भी कमा रहे हैं। यूट्यूब एक ऐसा मंच है, जो कई लोगों को कंटेट बनाने की सुविधा प्रदान करता है।


  • गूगल मैप्सः जिसकी वजह से ही कई ऑटो राइड कंपनियां चल रही है, जैसे ओला, ऊबर इत्यादि। जो कि लोकेशन के लिए गूगल के मैप्स का ही प्रयोग करते हैं।


  • गूगल स्टोरः इस स्टोर के बिना आपका फोन चल ही नही सकता, यदि आप एक एंड्रायड यूजर है, तो एप्लीकेशन को डाउनलोड करने हेतु गूगल प्ले स्टोर का ही प्रयोग करना पड़ता है।


  • गूगल ट्रांसलेटः एक समय था, जब हमें किसी भाषा को ट्रांसलेट करने हेतु काफी मशक्कत करनी पड़ती थी, लेकिन गूगल ट्रांसलेट की मदद से ये काम बहुत ही आसान हो गया है, और इसकी मदद से हम कई अर्न्तराष्ट्रीय भाषाओं का अनुवाद चुटकियों में आसानी से कर सकते हैं। 


  • गूगल अर्थः जिसकी मदद से आप चुटकियों में पूरे विश्व का दौरा कर सकते है, और वो भी घर बैठे-बैठे। गूगल अर्थ दुनिया के कोने-कोने के नक्शे को आपके सामने लाकर रख देता है।


  • गूगल न्यूजः जिस पर आपको सभी राष्ट्रीय और अर्न्तराष्ट्रीय न्यूज की खबरें देखने और सुनने का मौका मिलता है।


  • गूगल एडसेन्सः गूगल की ये सेवा उन्हीं लोगों को मिलती है, जो गूगल के उत्पादों से पैसा कमाना चाहते है। यदि आप एक यूट्यूबर है, अथवा ब्लॉगर, पैसा कमाने हेतु आपके पास गूगल का एडसेंस अकाउन्ट होना जरूरी है, और जब आपको गूगल का एडसेंस अप्रूवल मिल जाता है तब आप इसके माध्यम से पैसा कमाना प्रारम्भ कर सकते है।

उक्त के अलावा गूगल की ऐसी बहुत सारी सेवाएं है, जिनके बारे में यदि बात की जायेगी, तो यह लेख काफी विस्तृत हो जायेगा।

फिर एक स्वर में कहा जाये, तो......

गूगल एलर्ट,
गूगल बुकमार्क्स,
गूगल कैलेण्डर,
गूगल कोड,
गूगल फाइनेंस,
गूगल क्लाउड प्रिन्ट,
गूगल गुप्स,
गूगल प्लस (बन्द हो चुकी है),
गूगल प्लेसेस,
गूगल टूल्स,
गूगल असिसटेंट, 
गूगल एंड्रायड,
गूगल बज,
गूगल चैट,
गूगल ग्लास,
गूगल स्काई,
गूगल मोबाइल्स,
गूगल नाउ,
गूगल गो

आदि कुछ और ऐसे उत्पाद है,जिनके बारे में बहुत कम ही लोगों को पता होगा।
गूगल वैश्विक कम्पनी के रूप में टॉप पर आता है, और इसके विषय में सिर्फ एक आर्टिकल के माध्यम से नही बताया जा सकता है। अतः गूगल के अन्य उत्पादों पर भी बात करने के लिए हम दूसरे लेख को लेकर आयेगें, और उस पर विस्तृत रूप से चर्चा करेगें।

आशा है गूगल से सम्बन्धित इन सभी उत्पादों और सेवाओं के बारे में आप सभी को थोड़ा-बहुत जानने का मौका जरूर मिला होगा।